-खाना खिलाने के साथ रास्ते में फंसे लोगों के लिए वाहन की भी कर रहे व्यवस्था

-शहर पहुंचने वाले सभी पैसेंजर्स का जान रहे हाल, समाजसेवियों भी हेल्प को आए आगे

बरेली: आपने पुलिस की बुराइयां तो अक्सर सुनी होगीलाठी भांजते हुए भी देखा होगा लेकिन पुलिस का एक दूसरा भी रूप है। लॉकडाउन में रास्ते में फंसे जरूरतमंद लोगों को पुलिस मददगार से खिदमतगार तक बन गई है। जी हां अगर आपको लगता है कि किसी जरूरतमंद को हेल्प की जरूरत है तो वह पुलिस से हेल्प ले सकता है। पुलिस उसकी हेल्प कर रही है।

खाना खाने के लिए हो रहा अनाउंस

दिल्ली, गाजियाबाद और दूसरे डिस्ट्रिक्ट से शहर पहुंचे लोगों को पुलिस न सिर्फ केयर कर रही बल्कि उनको खाना भी खिला रही है। रोडवेज बस स्टैंड पर सैटरडे को करीब पांच सौ से अधिक पैसेंजर्स दूसरे डिस्ट्रिक्ट से पहुंच तो गए थे, लेकिन उनके पास खाने-पीने के लिए कुछ नहीं था। सभी भूखे थे। ऐसे में पुलिस ने शहर के समाजसेवियों की मदद से सभी को खाने के पैकेट मुहैया कराए और खुद भी बांटे। इसके बाद सभी को उनके गंतव्य तक भेजने के लिए वाहनों का भी इंतजाम किया ताकि सभी महिलाओं और बच्चों के साथ अपने गंतव्य तक घर पहुंच सके।

समाजसेवी भी आए आगे

शहर में दूसरे डिस्ट्रिक्ट के फंसे लोगों को खाने-पीने की समस्या न हो इसके लिए जिला प्रशासन के साथ समाजसेवियों ने भी हेल्प के लिए हाथ बढ़ाया है। इसके लिए वह खुद अपने वाहन से शहर में जगह-जगह मिलने वाले जरूरतमंदों को खाना, पानी, चाय आदि उपलब्ध करा रहे हैं। ताकि लॉकडाउन में कोई भूखा-प्यासा न रहे। इसके लिए शहर के समाजसेवियों ने हेल्प लाइन नम्बर भी जारी किए है। ताकि कोई भी कॉल करके हेल्प मांग सकता है, उसे हेल्प मुहैया कराई जाएगी। शहर की समर्पण एक प्रयास संस्था, एसआरएमएस ट्रस्ट सहित कई संस्थाओं ने जरूरतमंदों को भोजन आदि उपलब्ध कराया।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner