क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: पाकिस्तान हाय-हाय, आतंकवाद हाय-हाय, आतंकवादियों को पनाह देनेवाले हाय-हाय. इन नारों से शनिवार को राजधानी रांची गूंज उठी. सड़क पर उतरकर लोगों ने उग्र प्रदर्शन किया. प्रदर्शन उन शहीदों के सम्मान में, जिन्होंने अपनी जान गंवा दी पुलवामा में हुए आंतकी हमले में. युवाओं के समूहों ने एक होकर राजधानी के विभिन्न हिस्सों में स्थित दुकानों को बंद कराया. आम जनता का आक्रोश इस कदर था कि जहां भी युवाओं का समूह दुकान बंद कराने गया, वहां के लोग भी इस समूह के साथ हो लिये और दुकान बंद कराने की मांग करने लगे. लोगों ने इस दौरान पूरे अपर बाजार को बंद कराया. वहीं, मेन रोड, हरमू, डेली मार्केट, धुर्वा, कर्बला चौक के कुछ हिस्सों में भी दुकानों को बंद पाया गया.

आतंक को जवाब दे सरकार

दुकानें बंद कराते हुए हाथों में तिरंगा लिए युवाओं ने नारा लगाया कि किसी भी हाल में पाकिस्तान को छोड़ा नहीं जाए. एक-एक शहीद का बदला लिया जाए. शहीदों के परिवारों के दु:ख का बदला लिया जाए. वयस्क और बुजुर्ग ही नहीं, बल्कि बच्चों के मुंह से भी यही बातें निकल रही थीं कि आतंकवाद का बदला ले सरकार. सबकी जुबां में एक ही बात आतंकवाद को जवाब दे सरकार. दुकान बंद करानेवालों ने इस दौरान दुकानदारों से समर्थन मांगा कि शहीदों के सम्मान में एक दिन दें.

मेन रोड में हर तरफ आक्रोश

इसी बीच दोपहर करीब 12 बजे से एक बजे तक अल्बर्ट एक्का चौक पर अलग-अलग बैनर लेकर युवाओं ने आक्रोश जताया. कोई जिला स्कूल से तो कोई रांची यूनिवर्सिटी कैंपस से तो कोई सैनिक मार्केट में एकत्रित होकर अल्बर्ट एक्का चौक पहुंचा और पाकिस्तान विरोधी नारे लगाने लगे. लोगों में आक्रोश देखा गया. इस दौरान हर तरफ सिर्फ तिरंगा नजर आ रहा था और पुतला दहन का धुआं ही मेन रोड में नजर आ रहा था.

Posted By: Inextlive