-सीवर निर्माण में सावधानी नहीं बरतने से हो रही दुर्घटनाएं

-रोजाना घायल हो रहे लोग, सड़क पर बने गड्ढों से हो रही दुर्घटनाएं

-एक साथ खोद दिए गए कई जगहों पर गड्ढे

GORAKHPUR: शहर में हो रहे विकास कार्यो के प्रति लापरवाही के कारण अधिकारियों की गलती से राहगीरों को जूझना पड़ रहा है. जल निगम ने सड़क को खोदकर अंडर ग्राउंड सीवर को डाल दिया है. सीवर डालने के बाद क्षतिग्रस्त सड़क को रिपेयर नहीं किया गया है. खराब सड़क पर नालियों के ओवर फ्लो होने से सड़क पर दलदल सरीखा हो गया है. रोजाना सड़क के गड्ढों में कोई न कोई गाड़ी फंस जाती है और उसके पीछे लंबा जाम लग जाता है. गाड़ी को गड्ढे से निकालने के लिए ट्रैक्टर या जेसीबी का सहारा लेना पड़ता है. व्यापारियों ने बताया कि रास्ता खराब होने के कारण व्यापार प्रभावित हो रहा है. रोजाना जाम लगने से कस्टमर आने से कतराते हैं. पंद्रह दिनों से सड़क की यही स्थिति बनी है.

मना करने के बाद भी नहीं सुनते अधिकारी

स्थानीय निवासियों का आरोप है कि अंडर ग्राउंड सीवर डालने के लिए जल निगम ने कई जगहों पर गड्ढे खोद दिए हैं. इनमें से कुछ ही जगहों पर काम किया जा रहा है लेकिन गड्ढे खुदे होने से पब्लिक को काफी परेशानी हो रही है. पार्षद प्रतिनिधि राघवेन्द्र सिंह ने बताया कि सीवर डालने के बाद सड़क को अधिकारियों ने छोड़ दिया है. रास्तों में गड्ढों के कारण रोजाना गाडि़यां उसमें फंसती रहती है और लंबा जाम लग जाता है. सड़क को दुरुस्त करने के लिए अधिकारियों से कई बार कहा गया पर गंभीरता से कोई कार्रवाई नहीं की गई.

135 किमी सीवर का होना है निर्माण

परियोजना प्रबंधक निर्माण इकाई यूपी जल निगम की ओर से शहर के उत्तरी भाग में 55.77 किमी सीवर 72.27 करोड़ रुपए की लागत से बनवाया जाना था. जिसमें से 4695 घरेलू कनेक्शन दिया जाना है. वहीं दक्षिणी भाग में 80 किमी तक सीवर नेटवर्क स्थापित करने पर 101.81 करोड़ रुपए खर्च किया जाना है. दक्षिणी क्षेत्र में 9180 घरेलू कनेक्शन दिए जाने हैं. सीवर निर्माण के लिए ही कई जगहों पर गड्ढे करने के बाद उन्हें जस का तस छोड़ दिया गया. जिससे स्थानीय लोगों व राहगीरों की परेशानी बढ़ गई है.

कोट-

संबंधित अधिकारियों से रास्तों को दुरुस्त करने के लिए कई बार कहा पर कार्रवाई नहीं की गई. रोजाना लोग दुर्घटनाओं का शिकार हो रहे हैं.

राघवेन्द्र सिंह, पार्षद प्रतिनिधि

रास्ते पर गड्ढे अधिक हो गए हैं जिनके कारण दुर्घटनाएं बढ़ रही हैं. अक्सर बाइकर्स घायल हो जा रहे हैं.

अरविंद सिंह, प्रोफेशनल

रास्तों पर बड़े गड्ढे होने की वजह से गाडि़यों के पहिए उसमें फंस जा रहे हैं. जिससे प्रतिदिन घंटों जाम लग रहा है.

दीपक मिश्रा, बिजनेसमैन

सड़कों को जरूरत के अनुसार ही खोदा गया है. यथा संभव उनकी मरम्मत भी कर दी जा रही है. नागरिकों की सुविधाओं का पूरा ख्याल रखा जा रहा है.

सुधीर कन्नौजिया, अवर अभियंता