17 जनौषधि केंद्र हैं जिले में, मेडिकल कॉलेज में छांट ली गई है जगह

>Meerut. मरीजों को सस्ती दरों पर जेनेरिक दवाइयां मुहैया करवाने के लिए खोले जा रहे जनौैषधि केंद्र अब शहर के सरकारी अस्पतालों में भी खोले जाएंगे. इसके पीछे उद्देश्य यह है कि जनौषधि केंद्रों तक ज्यादा से ज्यादा लोगों की पहुंच हो सके.

टेंडर हुए जारी

जनौषधि केंद्र खोलने के लिए शासन की ओर से टेंडर जारी किए जा चुके हैं और सभी प्रक्रिया भी पूरी हो गई हैं. जिला अस्पताल में निर्माण कार्य भी शुरू हो गया है. सरकारी दवाखाने के बराबर में इसे तैयार करवाया जा रहा है. उधर, मेडिकल कॉलेज में जगह छांट ली गई है.

कोई भी खरीदे दवाइयां

इन स्टोरों से न केवल सरकारी अस्पतालों के मरीजों को राहत मिलेगी, बल्कि बाहर के अस्पतालों में इलाज करवा रहे मरीजों को भी आसानी होगी. यहां आकर कोई भी व्यक्ति दवाइयां खरीद सकता है.

शासन की मांग पर हमने जगह छांट ली है. रेनोवेशन का काम शुरू हो गया है. केंद्र जल्द ही शुरू हो जाएगा.

डॉ. पीके बसंल, एसआईसी, जिला अस्पताल

जनौषधि केंद्र के लिए पुरानी ओपीडी के बराबर की जगह छांटी गई है. जल्द ही यहां काम शुरू हो जाएगा.

डॉ. अजीत चौधरी, सीएमएस, मेडिकल कॉलेज