-मृतक के परिवार को धमकाने पहुंचा आरोपित, महिलाओं ने की जमकर पिटाई

आगरा. पूर्व नौसेनाकर्मी के हत्याकांड के पर्दाफाश की पुलिस जानकारी दे रही थी. उधर, आरोपित दामाद का पिता कुछ लोगों को लेकर मृतक के घर पहुंच गया. मृतक की पत्नी और बेटी पर मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाने लगा. जानकारी होने पर बस्ती के लोगों ने आरोपित को दबोच लिया. मृतक की पत्नी और बस्ती वालों ने उसकी पिटाई करने के बाद थाने लाकर पुलिस को सौंप दिया.

मुकदमा वापस लेने का बनाया दबाव

पूर्व नौसेनाकर्मी एडवर्ड मैसी की हत्या का आरोपित दामाद आमिर फरार चल रहा है. वह लोहामंडी की बेसन बस्ती का रहने वाला है. मंगलवार दोपहर में प्रेसवार्ता के कुछ देर बाद आमिर का पिता आजाद कुछ लोगों को लेकर मृतक नौसेनाकर्मी के घर लाल डिग्गी पहुंच गया. विधवा मिथलेश और उनकी बेटी सोनी का आरोप है कि आरोपित पक्ष उन पर मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाने लगा. बच्चों को उठा ले जाने की धमकी दी. इस पर मां-बेटी ने शोर मचा दिया. बस्ती वालों ने घेराबंदी करके आजाद को दबोच लिया. उसके साथ आए अन्य लोग बाइक से भाग निकले. धमकी से आक्रोशित मृतक की पत्नी मिथलेश ने आजाद की बेल्ट से पिटाई लगा दी. इसके बाद उसे थाने लाकर पुलिस को सौंप दिया. इंस्पेक्टर शाहगंज राजेश्वर प्रसाद त्यागी ने बताया कि तहरीर के आधार पर आरोपित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

सीसीटीवी फुटेज से मिला सुराग

पुलिस को हत्यारोपितों का सुराग शाहगंज-कलक्ट्रेट मार्ग पर लगे सीसीटीवी कैमरों से मिला. इसमें दामाद आमिर आखिरी बार ससुर के साथ दिखा था. जबकि उसने पुलिस को बताया था कि शाम को कहीं और गया था.

गोद ली बेटी का दूसरा शौहर है आमिर

एडवर्ड मैसी और उनकी पत्नी मिथलेश के कोई संतान नहीं है. उन्होंने बेटी सोनी के गोद लिया था. उसकी शादी की लेकिन पति उसे छोड़ गया. सोनी के पहले पति से एक बेटा है. आरोपित आमिर से उसने दूसरी शादी की. उससे भी दो बेटे हैं. आमिर कुछ महीने बाद ही घर जमाई बनकर रहने आ गया.

स्कूलों में प्रवेश के नाम पर हड़पी लोगों की रकम

लक्ष्य बिंद्रा ने पुलिस को बताया कि वह बी.कॉम है. स्कूलों में प्रवेश के नाम पर कई लोगों से रकम ले चुका है. प्रवेश नहीं होने के चलते लोग रकम लौटाने का दबाव बना रहे थे. रुपये की जरूरत होने पर वह हत्या की साजिश में शामिल हो गया.