29 जून को वीसी ने एक लेटर भेजा थे जिसके मुताबिक 8 अप्रैल से पहले कॉलेज को जो रूल कर रहे थे वो ही प्रिंसिपल हैं. उन्होंने 11 जुलाई को आने वाले कोर्ट के फैसले का भी जिक्र लेटर में किया है.  ट्यूजडे को जब स्टूडेंट्स कॉलेज पहुंचे तो उनको मालूम चला कि को-ऑपरेटिव बैंक से लिए गए फॉर्म वैलिड हैं. इससे ही फस्र्ट कटऑफ लिस्ट बनेगी. जिन स्टूडेंट्स ने कॉलेज से फॉर्म लिए थे, अब वो फॉर्म का पैसा वापस लेने के लिए कॉलेज के चक्कर काट रहे हैं.

अभी मिलते रहेंगे forms

क्राइस्ट चर्च कॉलेज की फस्र्ट कटऑफ लिस्ट आनी थी. कॉलेज के विवाद के चलते 4 जुलाई को नहीं आ सकी. एडमिशन के लिए कॉलेज और बैंक दोनों जगह फॉर्म मिल रहे थे. जिन स्टूडेंट्स ने कॉलेज से फॉर्म लिए वो कैंसिल कर दिए. स्टूडेंट्स अब बैंक से फॉर्म ले रहे हैं. बैंक से फॉर्म पहले 6 जुलाई तक मिलने थे अब 9 जुलाई तक मिलेंगे. डेट फॉर्म सब्मिट करने के लिए भी लास्ट डेट है.

कहां से मिलेंगे पैसे?

कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन के दो पक्षों के बीच चल रहे विवाद से स्टूडेंट्स परेशान हो रहे हैं. जहां एक पक्ष का कहना है कि जिन स्टूडेंटस ने कॉलेज से फॉर्म लिए हैं वो कॉलेज आकर फॉर्म के पैसे वापस मांग रहे हैं, लेकिन फॉर्म कॉलेज के गेट पर बांटे गए हैं इसलिए कॉलेज का कोई लेना-देना नहीं है. ऐसे में सिर्फ स्टूडेंट्स परेशान हो रहे हैं.