-बैंक और सूदखारों से लिया था दो लाख का कर्ज, हर माह देना पड़ता था 25 हजार रुपए ब्याज

-ब्याज न देने पर सूदखोर कर रहे थे परेशान, डिप्रेशन के चलते लगाई फांसी

बरेली : कर्जदारों से परेशान होकर एक किसान ने पीपल के पेड़ से लटकर अपनी जान दे दी. जब ग्रामीणों ने उसकी लाश को पेड़ से लटकते देखा तो गांव में हड़कम्प मच गया. पुलिस ने घटनास्थल का जायजा कर मृतक के घर वालों से जानकारी दी. पुलिस ने जांच के बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा.

कर्च चुकाने को था परेशान

थाना आंवला के पथरी निवासी कुंवरपाल (38) खेतीबाड़ी कर अपने परिवार का खर्च उठाता था. इसके अलावा उसने अपने प्लाट पर मैथा लगाया था. जिसके लिए उसने बैंक और सूदखोरों से दो लाख रूपए ब्याज पर लिया था. कर्ज चुकाने को लेकर वह काफी परेशान रहता था.

सेंधा गया था कुंवरपाल

मृतक के पिता ओमपाल ने बताया कि उनका बेटा वेडनसेड को साइकिल से सेंधा गंाव गया था. उसके बाद वह वापस घर नहीं लौटा. काफी तलाश करने के बाद भी उसका कहीं सुराग नहीं लगा. थसर्ड को मंटूरी यादव के खेत के पास उसका शव पीपल के पेड़ पर रस्सी के सहारे लटका मिला. पेड़ के नीचे उनकी चप्पल पड़ी थी. कुछ दूर उनकी साइकिल खड़ी मिली. जब परिजनों को सूचना मिली तब घर में कोहराम मच गया.

नहीं दे पा रहा था ब्याज

परिजनों के मुताबिक कुंवरपाल को हर महीने 25 हजार रुपए ब्याज देना पड़ रहा था. ब्याज और रकम न लौटा पाने के कारण सूदखोर उन्हें लगातार परेशान कर रहे थे. मृतक के परिवार में उनके वृद्ध पिता ओमकार, पत्नी हरदेई और अनिल, सुनील, रचना व आरती सहित चार बच्चे हैं. वे अकेले ही कमाने वाले व्यक्ति थे. उनके सभी बच्चे पढ़ाई कर रहे है. बताया जाता है कि मानसिक रूप से परेशान होकर उसने फांसी लगाई है.