क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : देश-दुनिया में पर्यावरण बचाने के लिए मुहिम चल रही है. कोई पौधारोपरण कर रहा है तो कोई पॉलीथीन का विरोध. जागरुक लोग अपने अपने तरीके से पर्यावरण को स्वच्छ रखने की कोशिश में लगे हैं. और ऐसी ही एक मुहिम छेड़ रखी है रांची स्थित साईं कॉलोनी के रहने वाले मनोज कुमार. 2007 में अपने कुछ सहयोगियों के साथ इन्होंने संपूर्ण एनवायरमेंट अवेयरनेस मूवमेंट (टीम) बनाया और फिर चल पड़े पर्यावरण को बचाने की राह पर.

लोगों को कर रहे अवेयर

'टीम' के जरिए मनोज कुमार पर्यावरण को बचाने की मुहिम छेड़ रखी है. यह संस्था पौधरोपण, पेड़ों को बचाने व जल संरक्षण के लिए अभियान चला रही है. टीम के सदस्य अभियान चलाकर रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के प्रति लोगों को जागरूक कर रहे हैं. जल संरक्षण के अलावा ये सार्वजनिक जगहों पर वृक्षों के आसपास बिछे कंक्रीट को भी साफ करते हैं.

अभियान वापस लेने के लिए मिल चुकी है धमकी

पर्यावरण संरक्षण व रेन वाटर हार्वेस्टिंग के लिए अभियान चला रहे मनोज कुमार को कई बार धमकी भी मिल चुकी है. कुछ बिल्डर्स और जमीन माफियाओं की नाराजगी भी उन्हें झेलनी पड़ी. जान से मार देने की भी धमकी मिली, पर उनके कदम रूके नहीं. आज भी वे बड़े पैमाने पर अपने अभियान को चला रहे हैं.

साईं कॉलोनी की बदल दी तस्वीर

मनोज के प्रयासों का नतीजा है कि साईं कॉलोनी की तस्वीर बिलकुल बदल चुकी है. उन्होंने गुजरात के मॉडल पर अपने घर में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाया है. इसके तहत एक हजार स्क्वायर फीट के रूफ अथवा ओपन एरिया में आसानी से जल का शोधन कर भू गर्भ में डिस्चार्ज किया जा सकता है. इस मॉडल की नगर विकास मंत्री ने भी तारीफ की है. मनोज से ही प्रेरित होकर इस मोहल्ले के कई घरों में लोगों ने इसी मॉडल के रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को लगाया है. इतना ही नहीं मधुकम में लोगों ने सामूहिक प्रयास से चेक डैम भी बनवाया है. इससे इस इलाका का ग्राउंड वाटर लेवल भी बढ़ा है.

मंत्रियों के आवास में नहीं है रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम

यूथ पावर इन इंडिया ऑर्गनाइजेशन के बैनर तले भी जल संरक्षण के लिए अभियान चल रहा है. इस ऑर्गनाइजेशन ने राजधानी रांची में जल संकट को लेकर जो सर्वे कराया, उसने सरकार की नींद खोल दी. सर्वे में पता चला कि ज्यादातर मंत्रियों के आवास में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम नहीं है. इस रिपोर्ट के सार्वजनिक होने के बाद सरकार ने मंत्रियों, विधायकों व अधिकारियों के आवास में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के लिए राशि आवंटित कर दी. मालूम हो कि इस संस्था द्वारा रेन वाटर हार्वेस्टिंग प्लांट को ज्यादा से आवासीय व व्यवसायिक परिसरों में बनवाने पर बल दिया जा रहा है.