-कोहरे में फॉग सेफ डिवाइस से चलेंगी ट्रेनें

PATNA

: इस बार ठंड के मौसम में ट्रेन की रफ्तार पर कोहरे की मार नहीं पड़ेगी। पूर्व-मध्य रेल की ओर से इंजनों में फॉग सेफ डिवाइस लगाई गई है। ट्रेनों के सुचारु परिचालन के लिए पूर्व-मध्य रेल की मेल/एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों के लोको पायलटों के लिए 1630 सेफ डिवाइस का प्रावधान किया गया है।

जीपीएस से चलता डिवाइस

फॉग सेफ डिवाइस जीपीएस आधारित एक ऐसा उपकरण है, जो लोको पायलट को आगे आने वाले सिग्नल की चेतावनी देता है। इससे लोको पायलट ट्रेनों की स्पीड को नियंत्रित करते हैं। इसके अतिरिक्त फॉग मैन भी तैनात किए जा रहे हैं, जो कोहरे के दौरान रेल लाइन पर सिग्नल की स्थिति की निगरानी करेंगे। रेल फ्रैक्चर से बचाव व समय पर इसकी पहचान के लिए उच्चाधिकारियों की निगरानी में रेलकर्मी द्वारा निरंतर गश्ती की जाएगी।

ड्राइवरों को दिए गए किलोमीटर चार्ट

सिग्नलों की दृश्यता को बढ़ाने के लिए सिग्नल साइटिंग बोर्ड, फॉग सिग्नल पोस्ट, ज्यादा व्यस्त समपार के लिफ्टिंग बैरियर आदि को काले व पीले रंग से रंगकर चमकीला बनाया गया है। घने कोहरे में स्टॉप सिग्नल की पहचान के लिए विशेष चिन्ह 'सिगमा शेप्स' का प्रावधान किया जा रहा है। लोको पायलटों को प्रत्येक स्टेशनों का 'फ‌र्स्ट स्टॉप सिग्नल लोकेशन' किलोमीटर चार्ट उपलब्ध कराया जा रहा है। सभी स्टेशन मास्टरों व लोको पायलटों को निर्देश दिया गया है कि कोहरा होने पर इसकी सूचना तत्काल नियंत्रण कक्ष को दें। पूर्व-मध्य रेल में कोहरा होने पर गाडि़यों को 75 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की गति से नहीं चलाने का निर्देश दिया गया है।

Posted By: Inextlive

inext banner
inext banner