आगरा. देश के पुराने विवि में से एक आंबेडकर विवि गुणवत्ता परक शिक्षा का केंद्र बने. विवि के दीक्षा समारोह में उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि 92 साल पुराने में विवि के पंडित दीन दयाल उपाध्याय पूर्व छात्र रहे हैं. यहां से पूर्व राष्ट्रपति, वर्तमान राष्ट्रपति और दो दो पूर्व प्रधानमंत्री दिए हैं. समय के साथ बदलाव की जरूरत है. उन्होंने कहा कि 1995 में आगरा विवि का नाम डॉ. भीमराव आंबेडकर विवि किया गया. यह ज्ञान की सदी है. सत्र नियमित करने के लिए 15 जून तक परीक्षाफल घोषित होना था, यह संभव हो सका. 10 जुलाई से नया सत्र भी शुरू हो गया, अब स्किल, स्टार्ट अप, स्टेंड अप इंडिया के लिए युवा पीढ़ी को तैयार करना है. इसके लिए विवि को रोजगार परक शिक्षा और व्यावसायिक शिक्षा का केंद्र बनाना है. बदले दौर में शिक्षा के स्वरूप में भी बदलाव हुआ है, इसे भी ध्यान में रखा जाए. विवि में नकल विहीन परीक्षाएं कराई गई, सीसीटीवी भी लगाए गए.

शिक्षक समय से पहुंचे, ऊपर वाला देख रहा है

उन्होंने कहा कि भारत विश्व गुरु बनने की दिशा में काम कर रहा है, ऐसे में दुनिया भर में कोई गलत संदेश नहीं जाना चाहिए. खासतौर से उच्च शिक्षा के मामले में गुणवत्ता में सुधार होना चाहिए. आंबेडकर विवि सर्वश्रेष्ठ विवि बनना चाहिए, जिससे दूसरे विवि के कुलपति और शिक्षक यहां का अवलोकन करने के लिए आएं. कॉलेज के पूरे कैंपस में सीसीटीवी लगाए जाएं, जिससे पता चल सके कि शिक्षक और छात्र किस समय पहुंच रहे हैं, कक्षाएं नहीं चलती हैं तो डर रहे कि ऊपरवाला (सीसीटीवी) देख रहा है.