वाशिंगटन (आईएएनएस)। अमेरिका में दो लोगों की हत्या करने वाले टेनेसी राज्य के 63 वर्षीय एडमंड जागोरस्की को इलेक्टि्रक चेयर पर बैठाकर मौत की सजा दी गई है। जागोरस्की पिछले पांच साल में अमेरिका का ऐसा पहला कैदी बना है, जिसे बिजली की कुर्सी पर बैठकर मौत की सजा दी गई है। सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, अंतिम समय में दाखिल माफी याचिका सुप्रीम कोर्ट से ठुकराए जाने के बाद गुरुवार रात को जब एडमंड को मौत दी गई, उसके अंतिम शब्द थे..लेट्स रॉक (चलो धूम मचाएं)। बता दें कि जब एडमंड को मौत दी गई, उस वक्त हत्या का शिकार हुए दोनों पुरुषों के रिश्तेदार भी वहां मौजूद थे।

सजा-ए-मौत का दूसरा विकल्प
गौरतलब है कि एडमंड ने 1984 में दो लोगों को ड्रग्स बेचने के बहाने एक सुनसान इलाके में बुलाने के बाद गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी। पुलिस ने इस घटना के दो सप्ताह बाद दोनों युवकों का शव बरामद किया था। दोनों के गले बेरहमी से रेते गए थे। जेल अधिकारियों ने पहले एडमंड को जहरीले इंजेक्शन से मौत की सजा देने की योजना बनाई थी लेकिन एडमंड ने कोर्ट में इस फैसले को चुनौती दी, जिसके बाद उसे इलेक्टि्रक चेयर पर बैठाकर मौत दी गई। अमेरिका के नौ राज्यों में सजा-ए-मौत के लिए घातक इंजेक्शन के अलावा इलेक्टि्रक चेयर का इस्तेमाल दूसरे विकल्प के तौर पर किया जाता है।

ट्रंप बोले, अमेरिका ईरान को दुनिया का सबसे घातक हथियार बनाने की अनुमति नहीं देगा

अमेरिकी यूनिवर्सिटी के कैंपस में गोलीबारी से एक छात्रा की मौत, संदिग्ध फरार

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk