-पुलिस अफसरों के पत्र पर शासन ने लिया संज्ञान

- पुलिस ने जाहिर की जातीय हिंसा की आशंका

Meerut: योगेश वर्मा को जल्द ही जौनपुर या वाराणसी की जेल में ट्रांसफर किया जा सकता है. इसके लिए शासन को पत्र लिखा गया है. पुलिस का तर्क है कि अगर योगेश वर्मा ज्यादा दिन तक मेरठ जेल में बंद रहा तो जिले में फिर से उपद्रव हो सकता है. एसएसपी मंजिल सैनी का कहना है कि पूर्व विधायक योगेश वर्मा समेत कई चिह्नित बंदियों की दूसरे जेल में ट्रांसफर करने की तैयारी चल रही है.

जातीय हिंसा की आशंका

मेरठ जेल में दो अप्रैल को उपद्रव में शामिल पूर्व विधायक योगेश वर्मा, बसपा जोनल कोर्डिनेटर सुनील जाटव मंडल कोआर्डिनेटर दिनेश काजीपुर, बसपा पार्षद भोपाल सिंह चांदना समेत 212 लोग बंद है, जिनके खिलाफ पुलिस ने उपद्रव से संबंधित 13 गंभीर धाराएं लगाई हैं. योगेश वर्मा पर अब 5 मुकदमें अलग-अलग थानों में दर्ज हुए है. इससे पहले भी उसके खिलाफ आठ मुकदमें विभिन्न थानों में दर्ज है. महापौर सुनीता वर्मा भी पुलिस अधिकारियों पर प्रोटोकाल का पालन न करने का आरोप लगा रही हैं. उधर पुलिस ने योगेश वर्मा पर रासुका लगाने की तैयारी की है.

शासन ने िलया संज्ञान

पुलिस अधिकारियों के पत्र पर शासन ने संज्ञान लेकर जल्द ही बसपा नेताओं को पूर्वाचल जेल में ट्रांसफर करने का आश्वासन दिया है. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि बसपा के पूर्व विधायक को जौनपुर व वाराणसी जेल में ट्रांसफर किया जाल सकता है.

-------

पहले भी हुए ट्रांसफर

इससे पहले भी पुलिस अधिकारियों के कहने पर शासन ने कई बदमाशों को पूर्वाचल की जेलों में ट्रांसफर किया है. एक महीने पहले ही मेरठ जेल में बंद गैंग लीडर फईम व सईक को पूर्वाचल जेल में ट्रांसफर किया गया गया था.