tara.chandra@inext.co.in
AGRA : देशी शराब का कारोबार अवैध रूप से बढ़ रहा है। तेजी से मलिन बस्तियों में रहने वाले लोग इसका शिकार हो रहे हैं। इस संबंध में समाजसेवियों द्वारा कई बार इलाका पुलिस व संबंधित विभाग से कार्रवाई की मांग की गई। शहर में देशी शराब की दुकानों पर सुबह होते ही भीड़ लग जाती है। जबकि विभाग द्वारा ठेका खोलने का समय ग्यारह बजे निर्धारित किया गया है। विभागीय अधिकारियों की अनदेखी से ठेका स्वामियों के हौसले बुलंद हैं।

अधिक मुनाफे का लालच

ठेका स्वामी अधिक मुनाफे के लालच में अपनी दुकानों को सेल्समैन के हवाले कर देते हैं। वहीं सेल्समैन भी दो शिफ्टों में इस कार्य को अंजाम देते हैं। एक सेल्समैन देर-रात तक दुकान में रहता है, दूसरा सुबह से इस कार्य को अंजाम देते हैं। ठेका संचालक द्वारा निर्धारित समय के बाद इस कार्य को किया जाता है। इस कार्य को स्थानीय पुलिस की मदद से अंजाम दिया जाता है। कई बार शिकायत पर कार्यवाही के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जाती है। ठेका संचालक की विभागीय अधिकारी और स्थानीय पुलिस से साठ-गांठ रहती है।

सुबह खुलती हैं यहां दुकानें

शाहगंज, लोहामंडी, छत्ता व न्यू आगरा के नगला बूढ़ी में चौबीस घंटे देशी शराब की सुविधा ग्राहकों को उपलब्ध रहती है। स्थानीय लोगों द्वारा संबधित विभाग और इलाका पुलिस को इसकी जानकारी दी गई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं की गई। मलिन बस्तियों में ठेका आवंटन का पुरजोर विरोध किया गया था, लेकिन इसके बाद भी ठेका स्वामियों को क्लीन चिट देकर अनुमति प्रदान कर दी गई।

सुबह व रात तक ठेके खुलने की शिकायत नहीं मिली है, इसकी जांच कराई जाएगी। चोरी से शराब बेचने पर जुर्माना वसूल किया जाएगा।
नरेश पालिया, जिला आबकारी अधिकारी

असमय ठेके खुलने की शिकायत जिलाधिकारी व एसएसपी से कर चुके हैं, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई है। जीवनी मंडी क्षेत्र में दो महीने में दस लोगों की मौत हो चुकी है, लेकिन प्रशासन इससे बेखबर है।
कप्तान सिंह, समाजसेव

शादी में फोड़ेंगे पटाखे तो होगी जेल! बच्चे की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मांगी रिपोर्ट

सबरीमाला मंदिर : तनाव बरकरार-प्रशासन अलर्ट, जानें क्यों थी अब तक महिलाआें के प्रवेश पर रोक

Crime News inextlive from Crime News Desk