मुंबर्इ (ब्यूरो)। हर्षवर्धन के कम फिल्में करने के बाबत अनिल कहते हैं, 'हर्षवर्धन में मुझसे ज्यादा धैर्य है। मुझसे ज्यादा मेहनती है। लोग मुझे आकर कहते हैं कि उसको कमर्शियल फिल्म करने के लिए कहिए। मैंने सबको कह रखा है इंतजार करो। वह सब करेगा। उन्हें अपना निर्णय और वक्त लेने दें। मेरे साथ भी लोग यही करते थे। लोग कहते थे कि यह क्या पिक्चर कर रहा है। अनिल कपूर दाढ़ी उगाकर घूम रहा है। मुझे थैला वाला एक्टर बोलते थे। लोग मेरी फिल्मों को लेकर भी कहते थे कि क्या विधु विनोद चोपड़ा के साथ 'परिंदा' कर रहा है, क्लाइमेक्स में मर जाएगा।

लम्हे' फिल्म के लिए मूंछें रख ली
1942 लव स्टोरी के लिए बाल काटकर बैठ गया है। 'लम्हे' फिल्म के लिए मूंछें रख ली है कौन देखेगा इसको। इतना बड़ा स्टार है, लोग चाहते हैं कि डायलॉग मारे, दो-चार थप्पड़ मारे, डांस करे। महेश भट्ट के साथ क्यों काम कर रहा है? 'मिस्टर इंडिया' की आज सीक्वल बनाने की बात चल रही है। जब मैंने फिल्म की थी तो लोगों ने कहा था कि यह कौन-सी फिल्म कर रहा है, जिसमें आधी फिल्म में हीरो ही दिखाई नहीं दे रहा है। लोग '1942 ए लव स्टोरी' के गाने और फिल्म आज भी याद करते हैं।

विकलांग का रोल कैसे कर सकते हो
लोग कहते थे कि तुम इतने बड़े स्टार हो, तुम 'ईश्वर' में मानसिक रूप से विकलांग का रोल कैसे कर सकते हो! कैसे हीरो हो। शेखर कपूर मुझे सेट पर समझाने आए थे कि 'राम लखन' और 'तेजाब' जैसी फिल्मों के बाद यह फिल्म क्यों कर रहे हो? तुम्हारी स्टारडम इमेज को यह रोल सूट नहीं करेगा। 'स्लमडॉग मिलेनियर' के लिए लोगों ने मुझसे कहा था कि फिल्म का हीरो देव पटेल है, तुम तो केवल कुर्सी पर बैठे हुए हो, विलन का रोल कर रहे हो। जब ऑस्कर नाइट में पहुंच गया तो लोगों ने कहा कि कितना लकी है, ऑस्कर लेकर खड़ा है।'

अनिल कपूर बेटे संग पहली बार दिखेंगे इस ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट की बाॅयोपिक में, पूरी हो गई तैयारी

अनिल कपूर को भारी पड़ा स्टंट करना, ट्रीटमेंट के लिए जाएंगे जर्मनी

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk