- आयोग के पूर्व परीक्षा नियंत्रक से घंटो पूछताछ के साथ कई परीक्षाओं से जुड़ी फाइलें खंगाला

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: यूपीपीएससी यानी उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग में सोमवार को सीबीआई के अधिकारियों द्वारा कई घंटे तक पूछताछ की गई. साथ ही सीबीआई ने कई परीक्षा के परिणामों को लेकर अपनी जांच तेज कर दी है. सीबीआई के नए जांच अधिकारी विजेंद्र कुमार के नेतृत्व में टीम सोमवार की सुबह ही लोक सेवा आयेाग पहुंच गई. टीम के साथ इस बार आयोग के पूर्व परीक्षा नियंत्रक भी मौजूद थे. पूर्व परीक्षा नियंत्रक के कार्यकाल में हुई कई परीक्षाओं के परिणामों में खामियां जांच टीम खंगालने में जुटी है. सीबीआई ने उनसे घंटों पूछताछ किया. साथ ही उनके द्वारा दी गई जानकारियों के आधार पर फाइलों को खंगाला, जांची कापियों को निकलवाकर कम्प्यूटर में फीड डाटा को भी सीबीआई की टीम ने खंगाला.

विभिन्न अनुभागों में भी टीम ने की पड़ताल

समाजवादी पार्टी के शासनकाल में यूपीपीएससी की ओर से आयोजित की गई परीक्षाओं व जारी किए गए परिणामों की जांच कर रही सीबीआई ने सक्रियता बढ़ा दी है. सोमवार को दिनभर पूछताछ व जांच की प्रक्रिया जारी रही. इस दौरान टीम को लीड कर रहे विजेन्द्र कुमार के निर्देशन में जांच टीम के मेंबर्स ने लोक सेवा आयोग में स्थित विभिन्न अनुभागों में भी गहनता से दस्तावेजों की पड़ताल की.

सेक्शन अफसर की बिगड़ी तबियत

जांच के दौरान परीक्षा अनुभाग का एक सेक्शन अफसर सदमें में आ गया. सीबीआई टीम को देखकर कर्मचारी डर के कारण अचानक गिर गया. जिससे मौके पर थोड़ी देर के लिए हड़कंप मच गया. सूचना पर पहुंचे डॉक्टर ने कर्मचारी की जांच की. इसके साथ यूपीपीएससी में बने सीबीआई कक्ष में पूर्व परीक्षा नियंत्रक से घंटों पूछताछ चली. उन्हें रविवार की रात ही प्रयागराज बुला लिया गया था. इसके अलावा सीबीआई के नए जांच अधिकारी ने यूपीपीएसी के सचिव से मुलाकात की और परीक्षाओं व परिणाम में हुई गड़बड़ी पर कई घंटे तक चर्चा की. इसके बाद अधिकारियों और कर्मचारियों से भी अलग-अलग कई बिन्दुओं पर पूछताछ होती रही.

शिकायतकर्ताओं से मिलेगी सीबीआई के अधिकारी

लोक सेवा आयोग की भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी के माले में शिकायत करने वाले अभ्यर्थियों से भी जांच टीम के अधिकारी मुलाकात करेंगे. शिकायत करने वाले अभ्यर्थियों से मुलाकात के लिए मंगलवार का दिन निर्धारित किया गया है.

कब क्या-क्या हुआ

- शिकायतों के आधार पर जुलाई 2017 में योगी सरकार ने अखिलेश सरकार में हुई भर्तियों की सीबीआई जांच कराने की केंद्र सरकार से संस्तुति की

- 21 नवंबर 2017 को केंद्र सरकार ने सीबीआई जांच पर मुहर लगाई

- 24 जनवरी को सीबीआई ने जांच के लिए लखनऊ में प्राथमिक जांच दर्ज कर जांच शुरू की.

सीबीआई ने कब-कब की पूछताछ

27 फरवरी 2018

21 अप्रैल 2018

06 मई 2018

11 जून 2018

14 मार्च 2019

Posted By: Inextlive