भारत सरकार ने कहा उत्सव की तरह मनाएं कांस्टीट्यूशन डे

राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा और राष्ट्रगान की अहमियत बताएं

युवाओं को पता हो उनकी फंडामेंटल राइट्स और ड्यूटीज

vikash.gupta@inext.co.in

ALLAHABAD: ऐसे समय जब पड़ोसी मुल्क द्वारा भारतीय जवानों के साथ बर्बरता की जा रही है और हर हिन्दुस्तानी में देशभक्ति का जज्बा हिलोरे मार रहा है, भारत सरकार ने यंगिस्तान को जगाने का संकल्प लिया है. इसके लिये देशभर के एजुकेशन इंस्टीट्यूशंस को केन्द्र में रखा गया है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 26 नवम्बर कांस्टीट्यूशन डे को उत्सव की तरह मनाने का निर्देश दिया है.

खूब करें सेलिब्रेशन

मंत्रालय की ओर से देश के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के नाम जारी निर्देश में कहा गया है कि 26 नवम्बर को जमकर सेलीब्रेट करें. आयोजनों की जानकारी भी दी गई है. इसका मकसद भारतीय छात्रों को फंडामेंटल ड्यूटीज के बारे में अवेयर करना है. कहा गया है कि डिबेट, स्पीच और एसे कॉम्पटीशन का आयोजन किया जाए. जगह-जगह पोस्टर-बैनर लगाये जायें. प्रत्येक संस्थान के लिये एक लेक्चर का आयोजन अनिवार्य है.

एनसीईआरटी का क्वेशचन बैंक

इस सबके साथ एक ऑनलाइन क्विज कॉम्पटीशन भी करवाना होगा. इसका क्वेशचन बैंक एनसीईआरटी द्वारा डेवलप किया गया है. आयोजनों में टीचर्स को भी अधिकाधिक संख्या में प्रतिभाग करने और मार्गदर्शन के लिये कहा गया है. तिरंगे और राष्ट्रगान के प्रति सम्मान के भाव पर विशेष जोर दिया गया है.

इन दायित्वों के लिये रहें सजग

संविधान में कही गई बातों का अनुपालन सुनिश्चित करें

नेशनल फ्लैग एंड नेशनल एंथम का हमेशा करें सम्मान

देश को स्वतंत्र कराने के लिए संघर्ष करने वालों की विरासत को संजोकर रखें

राष्ट्र की सुरक्षा के लिए हमेशा समर्पित रहें

विविधता से भरे देश में आपसी भाईचारे और महिलाओं के सम्मान को प्रोत्साहित करें

अपनी सांस्कृतिक विरासत के महत्व को समझें और इन्हें संरक्षित करें.

जल, जंगल और जमीन को बचाने के लिए काम करें

वैज्ञानिकता और मानवता के विकास के लिए काम करें.

पब्लिक प्रापर्टी का ख्याल रखें और हमेशा हिंसा से बचें

हायर लेवल की अचीवमेंट के लिये व्यक्तिगत और सामूहिक रुप से तैयार रहें

06 से 16 वर्ष के बच्चों को शिक्षा के अधिकतम अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत रहें