क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन को लेकर चल रही अटकलों पर विराम लग गया है. महागठबंधन का नायक झामुमो होगा. बुधवार को कांग्रेस के झारखंड प्रदेश प्रभारी बीके हरिप्रसाद के नेतृत्व में झामुमो, राजद, कांग्रेस और जदयू के प्रतिनिधियों की हुई बैठक में झामुमो के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ने का फैसला लिया गया. झारखंड में गैर भाजपा विरोधी दलों के जीत की चुनावी रथ को रोकने के लिए पृष्ठभूमि तैयार कर ली गई है. कांग्रेस, झामुमो, राजद और जदयू ने एक साथ मिलाकर मिलकर चुनाव में उतरने की घोषणा की. हालांकि, सीट शेयरिंग के फार्मूले का मसौदा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राजद प्रमुख लालू प्रसाद, झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन और जदयू अध्यक्ष शरद यादव से विचार-विमर्श के बाद होगा.

सीटों को लेकर सहमति

बताया जाता है कि बैठक में कांग्रेस बड़ी पार्टी होते हुए भी 32 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जबकि झामुमो को 39, राजद को सात और जदयू को तीन सीटों पर लड़ाने की सहमति बन चुकी है. गौरतलब हो कि कुछ दिन पहले झामुमो और कांग्रेस में अधिक से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की थी. झामुमो ने जहां 50 सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा ठोंका था, वहीं कांग्रेस ने 45 सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कही थी.

मशक्कत के बाद निकला हल

लगभग दो घंटे की मशक्कत के बाद प्रदेश सीटों को लेकर सहयोगी दलों में सहमति बनने की बात सामने आई है. कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ अजय कुमार, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखदेव भगत, विधायक दल के नेता राजेंद्र प्रसाद सिंह, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और राजद से गिरिनाथ सिंह भी इस बैठक में मौजूद थे.

नायक की भूमिका मिलने से सीएम हुए उत्साहित

विधानसभा चुनाव में झामुमो के हेमंत सोरेन को नायक की भूमिका निभाने का दायित्व सौंपा गया है. इससे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी खासे उत्साहित हैं. पत्रकारों से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि इस जिम्मेवारी को निभाने के लिए वे पूरी तरह तैयार हैं.

चार दल मिलेंगे लड़ेंगे चुनाव -बीके हरिप्रसाद

प्रदेश कांग्रेस प्रभारी बीके हरिप्रसाद ने कहा कि गठबंधन के तहत चार दल मिलकर चुनाव लड़ेंगे. चुनाव में पार्टियों का नेतृत्व झामुमो करेगा. अभी औपचारिक तौर पर सीट शेयरिंग पर फैसला लिया गया है. इसकी आधिकारिक घोषणा पार्टी के शीर्षस्थ नेताओं से बातचीत के बाद ही तय होगा.