बुखार और खांसी के मरीजों की लगी लाइन

सांस की दिक्कत लेकर भी अस्पताल पहुंचे मरीज

Meerut. नए साल के दूसरे दिन ही शहर के सरकारी अस्पतालों में भारी भीड़ उमड़ी. इस दौरान अधिकतर मरीज सर्दी, खांसी व बुखार की समस्या से पीडि़त नजर आए. जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज दोनों में ही मरीजों की संख्या अधिक रही.

ये रही स्थिति

जिला अस्पताल की ओपीडी में बुधवार को तकरीबन 1500 मरीज पहुंचे. जबकि अन्य दिनों में ये आंकड़ा 1200 से 1300 मरीज रोजाना रहता है. वहीं मेडिकल कॉलेज में मरीजों का आंकड़ा 2700 से अधिक रहा. जबकि अन्य दिनों में यहां तकरीबन 2500 मरीज रोजना आते हैं. अधिकतर मरीजों में बुखार और सर्दी की शिकायत थी, जबकि कुछ मरीजों को सांस की भी दिक्कत थी. जिला अस्पताल के एसआईसी डॉ. पीके बंसल ने बताया कि मंगलवार को कंडोलेंस के चलते ओपीडी सेवाएं बंद थी, इसलिए मरीजों की संख्या बढ़ गई. जबकि मेडिकल कॉलेज के पीआरओ डॉ. दिनेश राणा ने बताया कि साल के पहले दिन मरीजों की संख्या कम थी लेकिन अधिकतर मरीज दूसरे दिन अस्पताल पहुंचे थे.

जिला अस्पताल में दी बॉयो मेडिकल वेस्ट डिस्पोजल की ट्रेनिंग

जिला अस्पताल में बुधवार को पैरामेडिकल स्टॉफ को बॉयो मेडिकल वेस्ट डिस्पोजल की ट्रेनिंग दी गई. इस संबंध में नोडल इंचार्ज डॉ. सुधीर ने बताया कि बॉयो मेडिकल वेस्ट डिस्पोजल के रिकॉर्ड को जल्द ही ऑनलाइन किया जाएगा. इसके तहत अस्पताल से निकलने वाले मेडिकल वेस्ट को पहले तौला जाएगा. उसके बाद ऑनलाइन रिकार्ड मेनेटेन करके कंपनी को डिस्पोजल के लिए दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि इस संबंध में ही पैरामेडिकल स्टॉफ को जानकारी दी गई है. वहीं कूड़ा निस्तारण के लिए अलग-अलग रंगों के डस्टबिन में ही तय कूड़ा डालने के निर्देश भी दिए गए हैं.

स्वाइन फ्लू का नया मरीज मिला

मेरठ. स्वाइन फ्लू का शिकंजा तेजी से लोगों को अपनी गिरफ्त में ले रहा है. बुधवार को 50 साल के व्यक्ति में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई. सीएमओ डॉ. राजकुमार ने बताया कि मरीज में जांच के बाद स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है. इसके अलाव वह सीओपीडी का भी मरीज है. सांस लेने में दिक्क्त की वजह से उसे निजी अस्पताल में भर्ती किया गया है.