क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: क्लोन चेक तैयार कर खाते से पैसे उड़ाने के मामले में आरोपी संतोष चौरसिया व संतोष महतो को कोतवाली पुलिस ने गुरुवार को जेल भेज दिया. दोनों से पूछताछ करने के लिए पुलिस बुधवार को जेल से रिमांड पर थाने लाई थी. पूछताछ में आरोपियों ने पुलिस के सामने कई खुलासे किए हैं.

कई खुलासे किए

पकड़े गए साइबर ठगों ने रांची के विभिन्न इलाकों में एक दर्जन से अधिक लोगों के खातों से लाखों रुपए की निकासी करने की बात स्वीकार की है. यह भी बताया कि रातू रोड, हिनू, बरियातू, डोरंडा के व्यवसायियों की सूची तैयार कर रेकी करते थे फिर उनके खाते से पैसे निकासी की है. आरोपितों ने पुलिस को कई खाताधारकों के नाम भी बताए हैं. कोतवाली इंस्पेक्टर श्यामानंद मंडल ने बताया कि संतोष चौरसिया क्लोन चेक बनाकर खाते से पैसे उड़ाने वाले गिरोह का सरगना है और संतोष महतो गिरोह का मुख्य सदस्य है. कोई भी वारदात को अंजाम देने की योजना दोनों मिलकर तैयार करते हैं. पूछताछ में दोनों आरोपियों ने इसकी जानकारी दी.

29 को पुलिस ने दबोचा था

रांची के चडरी निवासी ठेकेदार चंद्रकांत कुमार के खाते से 9.80 लाख उड़ाने के मामले में 29 नवंबर को पुलिस ने गिरोह के सरगना समेत छह आरोपियों को गिरफ्तार किया था. इनमें संतोष चौरसिया, मांडर के संतोष महतो, पलामू के अक्षय कुमार, कांके डैम साइड के अभिषेक कुमार पांडेय, मांडर के संजय उरांव और लापुंग के रवि कुमार यादव शामिल हैं. कोतवाली पुलिस ने ठेकेदार के खाते से कुल निकासी के चार लाख रुपए आरोपितों के पास से बरामद कर लिये थे. पूछताछ करने के बाद पुलिस 30 नवंबर को सभी आरोपियों को जेल भेज दिया था.