दीपावली पर्व मनाने के लिए हम कई दिनों पहले पूरे घर की साफ-सफाई करते हैं। घर में पेंट कराते हैं। ऐसा करके हम लक्ष्मी जी के आगमन की तैयारी करते हैं। जहां साफ-सफाई होती है, वहां बीमारी नहीं फैलती और जहां व्यक्ति स्वस्थ्य रहते हैं, वहां लक्ष्मी जी अपने आप ऐश्वर्य के साथ रहती हैं। लक्ष्मी जी हमारे घर में रुकें, इसीलिए हम प्रतिवर्ष उनकी पूजा उपासना करके उन्हें प्रसन्न करते हैं, ताकि हमारा घर वर्षभर समृद्धि से परिपूर्ण रहे।

प्रमुख द्वार पर इस तरह का तोरण लगाने से आती है सुख-समृद्धि

इसके लिए यह भी आवश्यक है कि हमारा घर वास्तु के अनुकूल हो ताकि हमारा जीवन समृद्धि से परिपूर्ण रहे। ऐसे में घर में दीपावली के पूर्व ही जितना बेकार सामान पड़ा हो उसे हटा दें। घर की सफाई करें। इस अवसर पर रंगोली बनाने की प्रथा भी शुरुआत से चली आ रही है। यदि रंगोली भी सही दिशा में बनाई जाए तो वह जीवन में खुशियां, समृद्धि और उपलब्धियां लेकर आती है। इसी तरह घर के प्रवेश द्वार में तोरण लगाने की परंपरा भी चली आ रही है, यदि आपके घर का द्वार उत्तर या उत्तर पूर्व की तरफ है, तो आप नीले रंग के फूलों का तोरण लगा सकते हैं। यदि आपके घर का द्वार दक्षिण की तरफ है, तो लाल, नारंगी रंग का और पश्चिम है तो पीले, पूर्व में है तो हरे रंग की तोरण लगाना समृद्धि का द्योतक है।

Diwali 2019: साफ-सफाई के बाद वास्तु के अनुसार सजाएं घर, जानें किस दिशा में क्या रखने से मिलेगा लाभ

उन्नति के लिए घर में किस दिशा में कैसी रंगोली बनाएं

पिरामिड युक्त तोरण लगाने से परहेज करें। उत्तर या उत्तर पूर्व दिशा में रंगोली लहरिया आकार की बनाएं। उन्नति के नये अवसरों को आमंत्रित करने के लिए पूर्व में अंडाकार बनायें और दक्षिण में त्रिकोणाकार बनाएं। इससे आप लाभ प्राप्त कर सकते हैं। घर में समृद्धि के लिए उत्तर व उत्तर पूर्व दिशा को साफ-सुथरा रखें। ये स्थान धन रखने के लिए उपयुक्त हैं पर यदि वास्तव में हम धन, सुख, समृद्धि अपने जीवन में लाना चाहते हैं, तो जरूरी है कि हम स्वयं में सकारात्मक बदलाव लाएं।

-प्रेम पंजवानी

Diwali 2019: दीपावली पर पूजा के लिए लक्ष्मी-गणेश की कैसी मूर्ति खरीदनी चाहिए

Posted By: Vandana Sharma

Spiritual News inextlive from Spiritual News Desk