वाशिंगटन (पीटीआई)। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि भारत, ईरान, रूस और तुर्की जैसे देशों को अफगानिस्तान में आतंकवादियों के खिलाफ लड़ना होगा। उन्होंने कहा कि सिर्फ अमेरिका ही 7,000 मील दूर चरमपंथियों के खिलाफ काम कर रहा है। ट्रंप ने बुधवार को कहा कि फिलहाल अन्य देश अफगानिस्तान में आतंकवादियों के खिलाफ लगभग कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में अफगानिस्तान में आईएसआईएस के आतंकियों पर किये गए सवाल पर जवाब देते हुए पत्रकारों से कहा, 'रूस, अफगानिस्तान, ईरान, इराक, तुर्की को अपनी लड़ाई लड़नी होगी। हमने पूरी तरह से खिलाफत को खत्म कर दिया है। मैंने यह रिकॉर्ड समय में किया है, लेकिन ये सभी अन्य देश जहां आईएसआईएस उभर रहा है, कभी न कभी उससे प्रभावित हुए हैं।'

Apple को राष्ट्रपति ट्रंप की धमकी, अमेरिका में बनाओ प्रोडक्ट्स या करो टैरिफ का सामना

साथ देने पर कुछ ही महीनों में खत्म हो सकती है लड़ाई

ट्रंप ने कहा, 'इन देशों को आईएसआईएस के खिलाफ लड़ाई लड़ने में हमारा साथ देना होगा क्योंकि अकेले आतंकियों से सामना करना मेरे हिसाब से संभव नहीं है। इस लड़ाई में इन देशों के अलावा भारत और पाकिस्तान को भी कभी न कभी साथ देना होगा।' बता दें कि एक दिन पहले ट्रंप ने संकेत दिया था कि अमेरिकी सेना अफगानिस्ता से पूरी तरह से नहीं हटेगी। ट्रंप ने कहा, 'देखिए, भारत वहीं है, फिर भी वे इससे नहीं लड़ रहे हैं। हम इससे लड़ रहे हैं। पाकिस्तान भी उसके बिलकुल नजदीक है। वे भी इससे बहुत बहुत कम लड़ रहे हैं। यह सही नहीं है। अमेरिका 7,000 मील दूर होने के बावजूद आतंकियों से लड़ रहा है। अगर सभी साथ मिलकर आईएसआईएस से लड़ें तो सालों के बजाय महीनों में यह लड़ाई खत्म हो सकती है।'

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk