- पटेल चौक स्थित एमएफसी रेस्टोरेंट में शॉर्ट सर्किट से लगी आग

- गायब थे फायर उपकरण, आधे घंटे तक आग से जूझा फायर महकमा

बरेली : शहर में रोजाना हजारों लोग रेस्टोरेंट और होटलों में खाना खाने जाते हैं लेकिन यह खबर उन्हें चौंका सकती है. जी हां शहर के पटेल चौक स्थित एमएफसी रेस्टोरेंट के सेकेंड फ्लोर पर बने किचन में थर्सडे दोपहर करीब 12:30 बजे अचानक शॉर्ट सर्किट से आग लग गई. इससे पहले कि वहां काम कर रहे कर्मचारी कुछ समझ पाते आग पूरे फ्लोर में फैल गई. हैरत की बात तो यह है कि जिस समय रेस्टोरेंट में आग लगी रेस्टोरेंट की किचन में पांच कर्मचारी काम कर रहे थे और दो लोग रेस्टोरेंट में खाना खा रहे थे. जैसे ही लोगों को रेस्टोरेंट में आग लगने का पता चला तो भगदड़ मच गई. रेस्टोरेंट ओनर ने सूचना फायर विभाग को दी, दस मिनट बाद मौके पर पहुंची फायर विभाग की टीम ने बीस मिनट की जद्दोजहद के पास आग पर काबू पाया.

नहीं थे फायर सेफ्टी उपकरण

चौंकाने वाली बात तो यह है कि अगर आग पूरे रेस्टोरेंट में फैल जाती तो उसे काबू कर पाना मुश्किल था क्योंकि रेस्टोरेंट में आग बुझाने के कोई इंतजाम नहीं थे. रेस्टोरेंट में दो फायर एक्सटिंग्यूशर लगे हैं लेकिन वह एक साल पहले ही एक्सपायर हो चुके थे.

नहीं ली थी एनओसी

यह रेस्टोरेंट पिछले दो सालों से चल रहा था, लेकिन ओनर ने फायर विभाग से एनओसी तक लेने की जहमत नहीं उठाई. वहीं फायर विभाग ने भी कभी इस पर कार्रवाई तक नहीं की.

चार लाख का हुआ नुकसान

ओनर रवि सिंह का कहना है कि रेस्टोरेंट में बड़ी मात्रा में फ्रोजन आइटम तैयार होता है. जिसके लिए चार बड़े फ्रायर लगे हुए हैं. आग से फ्रायर पूरी तरह से जल गए हैं. जिनकी कीमत करीब चार लाख रुपये है.

ओनर की बात

शार्ट सर्किट से आग लगी थी, कर्मचारियों और कस्टमर्स सभी को फौरन बाहर निकाल दिया था, एनओसी संबंधी जानकारी नहीं है.

रविंद्र सिंह.

वर्जन

बिल्डिंग से फायर उपकरण नदारद थे, दो सिलेंडर लगे मिले जो कि एक्सपायर थे, एनओसी भी नहीं थी, कार्रवाई को प्रशासन को रिपोर्ट भेज दी है.

सोमदत्त सोनकर, एफएसओ.