-लोडर पकड़ने पर रिश्वत मांगने के मामले में पुलिस का खेल

-पुलिस ने ड्राइवर और हेल्पर को दोबारा किया गिरफ्तार

बरेली-सुभाषनगर पुलिस जब रिश्वत के आरोपों में घिरी तो खुद को बचाने के लिए खेल कर दिया. जिस ड्राइवर और हेल्पर को लोडर के साथ पकड़ा था, उनके खिलाफ दोबारा कार्रवाई कर दी है. पहले पुलिस ने दोनों को शांतिभंग में चालान किया था और अब दोनों के खिलाफ ट्रक से सामान चोरी करने के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है. पुलिस ने ड्राइवर समेत उसके दो साथियों को भी इसमें शामिल दिखाकर जेल भेज दिया है, लेकिन हेल्पर को फरार बता दिया है. पुलिस ने ट्रक का रस्सा काटकर चीनी की बोरी चोरी करना दिखाया है, लेकिन किस ट्रक से चोरी की गई, इसका कोई जिक्र नहीं है और न ही ट्रक वाले ने पुलिस से कोई शिकायत की है.

18 जनवरी को पकड़ा टेंपो

बता दें कि अखा निवासी भेषपाल ने 21 जनवरी को एसएसपी से शिकायत की थी कि वह 18 जनवरी को मंडी से लोडर में 10 बोरी चीनी और 5 बोरी मैदा लेकर आ रहे थे. इसी दौरान चौकी इंचार्ज ने रामगंगा के पास लोडर पकड़ लिया और इसे छोड़ने के नाम पर 50 हजार रुपए की मांग की. उसके बाद ड्राइवर करनपाल और हेल्पर छोटेलाल का लोडर सहित लेकर गए और फिर 21 जनवरी को दोनों का शांतिभंग में चालान कर दिया. यही नहीं 5 बोरी चीनी और 5 बोरी मैदा भी गायब कर दीं और सिर्फ 5 बोरी चीनी बरामदगी दिखा दी.

ट्रक से बोरी चोरी करना दिखाया

पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस में खुलासा करते हुए बताया कि चौकी इंचार्ज ने 20 जनवरी को रात 2 बजे चेकिंग के दौरान एक लोडर को पकड़ा था, जिसमें चीनी की 5 बोरी लदी थीं. इसे थाने पर दाखिल किया गया था. जब जांच की तो पता चला कि टांडा निवासी नाजिम और रहमत ने इसे महेशपुरा फाटक के पास ट्रक से उतार लिया था. इसे लोड करने के लिए करनपाल और छोटेलाल को लोडर लेकर बुलाया था. इनके बीच आपसी विवाद भी हो गया था. चीनी पीलीभीत की एलएचएसएफ शुगर मिल की है, जो लोकल में नहीं बेची जा सकती है.