सिर्फ सर्टिफिकेट, मग ही कर सकेंगे गिफ्ट

बायो मेडिकल वेस्ट का रखना होगा ध्यान

3 घंटे में 50 से 60 यूनिट ब्लड ही डोनेट कराया जा सकेगा.

Meerut. ब्लड डोनेशन कैंप में 3 घंटे में 50 से 60 यूनिट ब्लड ही डोनेट करवाया जा सकेगा. इसके अलावा अगर सीएमओ या अन्य अधिकारी रेयर ग्रुप की डिमांड करता है तो कैंप ऑर्गेनाइजर को बिना रिपलेस्टमेंट इसकी पूर्ति करनी होगी. आउटडोर ब्लड डोनेशन कैंप लगाने वालों को अब शासन की तमाम शर्तो का पालन करना होगा. इसके लिए नाको, भारत सरकार व स्टेट ब्लड ट्रांजफ्यूजन काउंसिल की ओर से गाइडलाइन जारी कर दी गई हैं. इसके तहत सभी कैंप लगाने पर इनका पालन अनिवार्य होगा.

ये हैं निर्देश

डोनर्स को किसी प्रकार का लालच नहीं दिया जाएगा. केवल सर्टिफिकेट, बैचेज, मग आदि ही भेंट दिया जाएगा.

डोनेशन कैंप की जगह पर सभी मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध होंगी.स्टॉफ भी पूरा होगा.

कोल्ड चेन बनाएं रखने के लिए कम से कम 100 ब्लड यूनिट के लिए ट्रांसपोर्र्टेशन वैन या दूसरा वाहन होना जरूरी है.

संयुक्त डोनेशन कैंप लगाने की स्थिति में एक दिन में 500 से अधिक यूनिट डोनेशन नहीं किया जाएगा.

कैंप में पानी, हवा, रोशनी, सफाई की व्यवस्था होनी चाहिए.

ब्लड डोनेशन में बायोमेडिकल वेस्ट के नियमों का पालन किया जाएगा.

डोनर्स का प्री और पोस्ट टेस्ट काउंसलिंग होनी जरूरी है. रिफ्रेशमेंट भी होगा.

आउट डोर कैंप के लिए गाइडलाइंस जारी कर दी गई हैं. अगर कोई भी ब्लड बैंक के बाहर कैंप लगाता है तो उन्हें निर्धारित नियमों का पालन करना होगा.

डॉ. राजकुमार, सीएमओ, मेरठ