- दैनिक जागरण आई नेक्स्ट और रेडियो सिटी के 'बिन में फेंक' अभियान में लगातार लोग कर रहे हैं डस्टबिन न होने की कंप्लेन

- सड़कों, गलियों, फुटपाथों और मार्केट में रोजाना फेंका जाता है टनों कूड़ा, डस्टबिन न होने की वजह से सिटी पर गंदगी का दाग

kanpur@inext.co.in

KANPUR : सिटी में डस्टबिन न होना रोड्स पर गंदगी का बड़ा कारण है. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट और रेडियो सिटी के 'बिन में फेंक' अभियान में लोग लगातार इस बात का जिक्र कर रहे हैं. कानपुराइट्स का कहना है कि अगर आसपास डस्टबिन नहीं होंगे तो कूड़ा कहां फेंकेंगे. मजबूरन कूड़े को मोहल्ले और आसपास की सड़क किनारे फेंकने को मजबूर होना पड़ता है. इस अभियान के बाद नगर निगम की नींद भी टूटी है और अभी तक कम से कम 40 से ज्यादा जगहों पर हरे और नीले डस्टबिन लगाए जा चुके हैं.

यहां से मिली डस्टबिन न होने की कंप्लेन

सिरकी मोहाल

यहां रहने वाली स्थानीय निवासी प्रियंका जायसवाल ने फोटो शेयर कर बताया कि यहां डस्टबिन न होने की वजह से लोग गली में कूड़ा डालते हैं. कंजेस्टेड गली होने की वजह से कूड़े की बदबू से सांस लेना दूभर हो गया है.

खुरचन वाली गली

सीसामऊ के स्थानीय निवासी श्रृष्टि दीया ने बताया कि बब्बू खुरचन वाली गली किनारे लोग बड़ी संख्या में कूड़ा डालते हैं. जबकि यहां से लोग हजारों की तादाद में लोग गुजरते हैं. यहां डस्टबिन लगने से काफी हद तक प्रॉब्लम खत्म हाे जाएगी.

ोविंद नगर

डीबीएस मार्केट के व्यापारी पवन कुमार गुप्ता ने बताया कि मेन रोड है, लेकिन आए दिन मार्केट में रोड किनारे कोई न कोई बड़ी मात्रा में कूड़ा फेंक जाते हैं. डस्टबिन न होने की वजह से पूरी मार्केट में काफी गंदगी रहती है.

Posted By: Inextlive