- वीसी प्रो। एमएलबी भट्ट ने की अनूठी कैंपेन की शुरुआत

- कई फैकल्टी मेंबर्स और रेजीडेंट डॉक्टर्स ने चलाई साइकिल

LUCKNOW: किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) प्रशासन ने पर्यावरण को स्वच्छ बनाने में सहयोग करने के लिए एक अनूठी मुहिम 'नो कार बुधवार' शुरू की है। इसके तहत केजीएमयू के फैकल्टी मेंबर, रेजीडेंट डॉक्टर्स और स्टूडेंट हर बुधवार कैंपस में अपनी गाडि़यां छोड़ साइकिल से चलेंगे। वीसी प्रो। एमएलबी भट्ट ने अन्य डॉक्टर्स के साथ स्वयं साइकिल चलाकर इसका शुभारंभ किया।

वीसी की अपील पर आई साइकिल

वीसी प्रो। एमएलबी भट्ट ने मंगलवार को सभी फैकल्टी मेंबर्स और कर्मचारियों, मेडिकोज को निर्देश भेज कर 'नो कार बुधवार' अभियान के तहत बुधवार को सिर्फ साइकिल से ही चलने के लिए आह्वान किया था। सिके बाद बुधवार को बड़ी संख्या में फैकल्टी और कर्मचारी व अन्य डॉक्टर साइकिल से पहुंचे और हर बुधवार कैंपस में कार से न चलने का फैसला किया। बुधवार को वीसी प्रो। एमएलबी भट्ट ने प्रो। संदीप तिवारी, डॉ। एसएन शंखवार, डॉ। भूपेंद्र सिंह, डॉ। अरुण शर्मा, डॉ। जीपी सिंह, डॉ। सिद्धार्थ कुंवर सहित अन्य लोगों के साथ साइकिल चलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

स्वास्थ्य बेहतर, कैंसर का खतरा कम

वीसी प्रो। एमएलबी भट्ट ने साइकिलिंग के फायदे बताते हुए सभी लोगों को रोजाना साइकिल का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया। उन्होंने बताया कि हफ्ते में कम से कम सात घंटे साइकिल चलाने से स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। रोजाना साइकिल नहीं चला सकते तो हफ्ते में दो या तीन दिन साइकिलिंग करके स्वास्थ्य रहा जा सकता है।

अनेक हैं फायदे

एक स्टडी का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि साइकिलिंग से स्वास्थ्य बेहतर होता है साथ ही मानसिक खुशी भी मिलती है। वजन नियंत्रित होता है और मांसपेशियों में मजबूती आती है। साइकिलिंग से भूख ज्यादा लगती है और फेफड़े स्वस्थ रहते हैं। साइकिलिंग से अत्याधिक कैलोरी बर्न होती है, जिसकी वजह से दिल की बीमारी और कैंसर का खतरा कम हो जाता है और प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती है।

पार्किंग बनेगी बड़ी चुनौती

केजीएमयू में पार्किंग बड़ी चुनौती है। सभी हॉस्टल्स और ट्रॉमा सेंटर व कई विभागों से अक्सर साइकिल चोरी होने की घटनाएं सामने आती रहती हैं। ऐसे में साइकिल का अभियान कितने समय तक चल पाएगा इस पर सवाल उठ रहे हैं। हालांकि वीसी प्रो। एमएलबी भट्ट ने बताया कि साइकिलों के लिए अलग से स्टैंड बनाने का प्रयास किए जाएंगे। तब तक वर्तमान स्टैंड पर ही साइकिल खड़ी करनी होंगी।

ये डॉक्टर्स रोज चलाते हैं साइकिल--फोटो

केजीएमयू में पब्लिक हेल्थ डेंटिस्ट्री के एचओडी डॉ। विनय गुप्ता, डॉ। सुरेंद्र सिंह लगातार साइकिल से केजीएमयू आ रहे हैं। दोनों से एक जैसी साइकिल खरीद कर साइकिल से आना तय किया था। ट्रॉमा सर्जरी के एचओडी डॉ। संदीप तिवारी पिछले हफ्ते से ही सइाकिल चला रहे हैं जिन्हें देखकर वीसी प्रो। एमएलबी भट्ट ने सभी को एक दिन साइकिल चलाने का निर्देश जारी किया। हिमैटोलॉजी विभाग में डॉ। भूपेंद्र सिंह ने बताया यदि आप किसी कारण वश एक्सरसाइज नहीं कर सके हैं तो साइकिल चलाकर उसकी कमी को पूरा किया जा सकता है। रोजाना साइकिल चलाने से पूरे शरीर की कसरत हो जाती है और हार्ट, लीवर, कैंसर जैसी बीमारियों से बचाव होता है।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner