कोलकाता (पीटीआई)। सौरव गांगुली ने 2000 में भारत के खिलाफ अपने देश का पहला टेस्ट मैच खेलने वाले बांग्लादेश टीम के सदस्यों को सम्मानित करने का फैसला किया है। गांगुली का इस टीम के साथ एक खास जुड़ाव है। दरअसल दादा का बतौर टेस्ट कप्तान यह पहला मैच था। ऐसे में जब नवंबर में बांग्लादेशी टीम टेस्ट खेलने भारत आएगी तो सीरीज का एक मुकाबला कोलकाता भी होस्ट करेगा। चूंकि सौरव गांगुली का घर यहीं पर है और वह बीसीसीआई अध्यक्ष भी बन जाएंगे, ऐसे में उन्होंने बांग्लादेश को खास सम्मान देने के लिए वहां की पीएम के साथ-साथ पूर्व खिलाड़ियों को भी इनवाइट किया।

गांगुली से है खास कनेक्शन

नवंबर 2000 में ढाका के बंगबंधु स्टेडियम में आयोजित होने वाला मैच भारतीय क्रिकेट में एक नए युग की शुरुआत था, जिसमें गांगुली ने टेस्ट टीम की कमान संभाली थी। भारत ने उस मैच में नईम रहमान दुरजॉय की टीम के खिलाफ नौ विकेट से जीत दर्ज की थी। टीम में बांग्लादेश के कप्तान हबीबुल बशर, बाएं हाथ के स्पिनर मोहम्मद रफीक, तेज गेंदबाज हसीबुल हुसैन शान्तो, अकरम खान, अमीनुल इस्लाम बुलबुल जैसे प्रमुख खिलाड़ी थे।

मैच के पहले दिन बाद होगा सम्मान

बांग्लादेशी खिलाड़ियों का यह सम्मान समारोह 22-26 नवंबर को ईडन गार्डन्स में भारत बनाम बांग्लादेश विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप मैच के दौरान  होगा। गांगुली ने ईडन गार्डन्स में संवाददाताओं से कहा, 'हम उस पहले टेस्ट मैच के सभी खिलाड़ियों को आमंत्रित करेंगे जो बांग्लादेश ने खेला था। यह भारत के खिलाफ था। मैं बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड और व्यक्तिगत रूप से उस भारतीय टीम के खिलाड़ियों को बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में लिखूंगा। हम एक छोटे से सम्मान समारोह करेंगे। यह समारोह पहले दिन के खेल के अंत में होगा।' उन्होंने यह भी बताया कि बांग्लादेश की पीएम हसीना मैच के पहले दिन उपस्थित रहेंगी और ईडन गार्डन की विशाल घंटी को बजाकर मैच शुरु करवाएंगी। गांगुली ने कहा, "बांग्लादेश की पीएम 22 नवंबर को आने वाली हैं। अगर सब कुछ ठीक रहा तो वह टेस्ट की शुरुआत के लिए घंटी बजाएंगी। बीसीसीआई अध्यक्ष बनने जा रहे गांगुली ने यह भी कहा कि वह व्यक्तिगत रूप से प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को भी आमंत्रित करेंगे।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk