कानपुर। अमेरिका की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की स्थापना आज ही के दिन यानी 8 सितंबर, 1636 को हुई थी। यह यूनिवर्सिटी अमेरिका के मैसाचुसेट्स शहर के कैंब्रिज में स्थित है। जब इसकी स्थापना हुई, तब इसे द कॉलेज ऑफ न्यू टाउन के नाम से जाना जाता था। बाद में 13 मार्च, 1639 को इसका नाम बदलकर हार्वर्ड कॉलेज रख दिया गया। जानकारी के मुताबिक, ये नाम जॉन हार्वर्ड के नाम पर रखा गया था। दरअसल, जॉन हार्वर्ड ने इस इंस्टीट्यूट को चलाने के लिए 400 किताबों की लाइब्रेरी और 779 डॉलर की चैरिटी की थी। हर साल इस यूनिवर्सिटी में 21 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स एडमिशन लेते हैं। खास बात ये है कि इनमें 7000 से अधिक विदेशी छात्र होते हैं। बता दें कि 48 नोबेल विजेता और 32 राष्ट्राध्यक्ष यहां के स्टूडेंट रह चुके हैं।

दुनिया के ये राष्ट्राध्यक्ष रहे हैं यहां के स्टूडेंट
अमेरिका- हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की आधिकारिक वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, पूर्व राष्ट्रपति जॉन एडम्स (1755), जॉन क्विंसी एडम्स (1787), रदरफोर्ड बी हेस (1845), थियोडोर रूसवेल्ट (1880), फ्रैंकलिन डेलानो रूजवेल्ट (1904), जॉन एफ़ कैनेडी (1940), जॉर्ज डब्ल्यू बुश, जूनियर (1975), बराक ओबामा (1991), उप पूर्व राष्ट्रपति अल गोरे (1969) और अमेरिका के पूर्व मुख्य न्यायाधीश विलियम रेनक्विस्ट (1950) ने यहां से पढ़ाई की है।

कनाडा -
पूर्व प्रधानमंत्री विलियम लियोन मैकेंज़ी किंग (1898) और पियरे तरुदौ (1945) ने यहीं से पढाई की है।

इसके अलावा अल्बानिया के प्रधानमंत्री फैन एस नोली (1912), ग्रीस के प्रधानमंत्री एंड्रियास पापंड्रेउ (1945), मेक्सिको के राष्ट्रपति मिगुएल डी ला मैड्रिड (1965), लाइबेरिया के राष्ट्रपति एलेन जॉनसन-सरलीफ (1971), पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनाजीर भुट्टो (1973), चिल के पूर्व राष्ट्रपति सेबेस्टियन पिनरा (1976), चीन गणराज्य के पूर्व उपराष्ट्रपति एनेट लू (1978), सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली हसीन लूंग (1980), कोलंबिया के राष्ट्रपति जुआन मैनुअल सैंटोस (1981), ताइवान के राष्ट्रपति मा यिंग-जेउ (1981), हांगकांग के मुख्य कार्यकारी और अध्यक्ष और कार्यकारी परिषद सर डोनाल्ड त्संग (1982), संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की-मून (1984), जापान की क्राउन राजकुमारी मसाको ओवाडा (1985), बोलीविया के राष्ट्रपति एडुआर्डो रोड्रिगेज (1988), इक्वाडोर के राष्ट्रपति जमील महुआद (1989), कोस्टा रिका के राष्ट्रपति जोसे मारिया फिगेरेस ओल्सन (1991), मेक्सिको के राष्ट्रपति फेलिप काल्डरन हिनोजोसा (2000), मंगोलिया के राष्ट्रपति तसाखिअगिन एल्बेग्दोर्ज (2002) और भूटान के प्रधानमंत्री शेर्गिंग तोब्गे ने यहां से पढ़कर 2004 में अपनी डिग्री हासिल की है।

यहां के इन स्टूडेंट्स को मिला नोबेल पुरस्कार

बता दें कि यहां के 13 स्टूडेंट्स को इकोनॉमिक्स में, 7 स्टूडेंट्स को केमिस्ट्री में, 13 स्टूडेंट्स को फिजियोलॉजी और मेडिसिन, 3 स्टूडेंट्स को मेडिसिन में, 11 स्टूडेंट्स को फिजिक्स में, 1 को साहित्य में और 3 छात्रों को शांति में नोबेल पुरुस्कार से सम्मानित किया गया है। कुल मिलकर हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के 48 छात्रों को अब तक नोबेल पुरस्कार मिल चुका है।

अमेरिका में ट्रंप की चेतावनी, महाभियोग चला तो तबाह हो जाएगा अमेरिकी बाजार

जिसके खिलाफ थे ट्रंप, उसी नीति के तहत उनके सास ससुर को मिली अमेरिकी नागरिकता

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk