अयोध्या नहीं दिख रहा '92' सा जुनून अनुमान से कहीं ज्यादा भीड़

2018-11-25T15:18:31Z

विश्व हिंदू परिषद की संडे को प्रस्तावित धर्म सभा के लिये अयोध्या में बड़ी संख्या में लोग पहुंच चुके है।

pankaj.awasthi@inext.co.in
AYODHYA: विश्व हिंदू परिषद की संडे को प्रस्तावित धर्म सभा के लिये अयोध्या में जहां बड़ी संख्या में लोग पहुंच चुके हैं, लेकिन भारी संख्या में पुलिस व पैरामिलिटी फोर्स की तैनाती और चेकिंग के साथ ही हिंदूवादी कार्यकर्ताओं में 1989-90 व 1992 जैसा जूनून नहीं दिखाई दे रहा है, वजह भी साफ  है दिल्ली व प्रदेश में बीजेपी की सरकार होने के चलते हिंदूवादी संगठन भी पुलिस व अन्य सुरक्षा एजेंसियों से टकराव नहीं चाहते। यही वजह है कि अयोध्या में इस बार माहौल बदला हुआ साफ  दिखाई पड़ रहा है। शिवसैनिकों को लेकर सुरक्षा व खुफिया एजेंसियां चिंतित थी लेकिन, शनिवार को संत आशीर्वाद समारोह सकुशल संपन्न होने से सबने राहत की सांस ली।

रोज रोज का झगड़ा समाप्त हो

हनुमान गढ़ी मंदिर के करीब प्रसाद की दुकान लगाने वाले राम अवतार बताते हैं कि इस बार का माहौल पिछली बार से बिलकुल जुदा है। इस बार कार्यकर्ताओं में आक्रोश या गुस्सा नहीं दिखाई दे रहा जैसा पिछले राममंदिर आंदोलनों में दिखाई देता था। राम मंदिर निर्माण को लेकर चिंतित दिख रहे राम अवतार ने कहा कि मंदिर के लिये सरकार को अध्यादेश लाना चाहिये ताकिए यह रोज रोज का झगड़ा समाप्त हो।

श्रद्धालुओं के भेष में जासूसी

जहां अयोध्या की ओर पूरे देश की नजर लगी है, ऐसे में यूपी पुलिस भी अपनी ओर से हालात को ठीक रखने में कोई कोर कसर नहीं रखना चाह रही। यही वजह है कि सुरक्षा एजेंसियां फूंक फूंक कर कदम रख रही हैं। पूरे आयोजन के दौरान पुलिसकर्मियों को रामभक्तों के वेश में मैदान में उतारा गया है। ये पुलिसकर्मी साधारण रामभक्तों की ही तरह अयोध्या में भ्रमणशील हैं और हर हरकत पर अपनी पैनी नजर बनाए हुए हैं। इन पुलिसकर्मियों को किसी भी संदिग्ध गतिविधि देखते ही अपने अधिकारियों तक सूचना पहुंचाना है। इन पुलिसर्मियों की तैनाती में ध्यान रखा गया है कि वे फैजाबाद या अयोध्या में ज्यादा समय से तैनात न रहे हों, ताकि उन्हें कोई पहचान न सके। संवेदनशील शहर होने के नाते अयोध्या में यूं तो हर समय अतिरिक्त फोर्स देखने को मिलती है, लेकिन इतनी बड़ी संख्या में पुलिस व अद्र्धसैनिक बलों की तैनाती मंदिर आंदोलन व शिलादान के बाद देखने को मिली है।

अनुमान से कही ज्यादा भीड़

जहां विहिप ने सभा में एक लाख कार्यकर्ताओं के जुटाने का दावा किया था लेकिन, यह संख्या तो शनिवार देररात तक ही अयोध्या में जुट चुकी है रविवार सुबह इससे कही ज्यादा कार्यकर्ताओं के अयोध्या पहुंचने की उम्मीद की जा रही है। इस भीड़ के मद्देनजर पुलिस ने भी व्यापक तैयारियां की हैं।रविवार पूर्वान्ह पक्का माल बगिया में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण के लिये समर्थन जुटाने को विहिप ने धर्मसभा का आयोजन किया है।

सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गए

पूरी अयोध्या में सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गए हैं। चप्पे चप्पेे पर निगरानी रखी जा रही है। किसी भी सूरत में हालात को बिगडऩे नहीं दिया जाएगा।
- राजेश कुमार पांडेय, एसपी सुरक्षा

अयाेध्या में ये है आखिरी प्रयास, 'धर्मसभा' के बाद अब सीधे होगा मंदिर निर्माण : विहिप


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.