ग्रेजुएट छात्राओं को डीडीयूजीयू बनाएगा टीचर और बैंक मैनेजर

2019-12-13T05:46:02Z

- डीडीयूजीयू से संबद्ध कालेजेज में शुरू होगा प्लेसमेंट सेल

- प्लेसमेंट सेल के जरिए छात्राओं को बनाया जाएगा टीचर

GORAKHPUR:

डीडीयूजीयू से संबद्ध कालेजेज में पढ़ने वाली छात्राओं के लिए गुड न्यूज है। अब उन्हें रोजगार के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। क्योंकि यूनिवर्सिटी प्रशासन ने यूनिवर्सिटी से संबंद्ध कालेजेज में पढ़ने वाली छात्राओं का कॅरियर ब्राइट बनाने की पहल की है। इसके लिए कालेज प्रबंधन ने प्लेसमेंट सेल का गठन किया है जो छात्राओं को जॉब दिलाएगा।

एक्सपर्ट के जरिए कराना है काउंसलिंग

बता दें, डीडीयूजीयू से संबंद्ध करीब 300 कालेजेज में एक लाख से ज्यादा छात्राएं पढ़ती है। इन छात्राओं का बेहतर भविष्य बनाने के लिए कैंपस प्लेसमेंट सेल का गठन किए जाने की बात कही गई है। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने कालेजेज को निर्देश जारी किया है कि वे अपने स्तर से कालेज कैंपस में प्लेसमेंट सेल का गठन कर सकते हैं। प्लसमेंट सेल के जरिए छात्राओं को बैंकिंग या फिर टीचिंग के फील्ड में कॅरियर बनाने के लिए एक्सपर्ट के जरिए काउंसलिंग करा सकते हैं।

प्रॉपर दी जाती है ट्रेनिंग

वहीं सिविल लाइंस स्थित सेंट जोसेफ वूमेंस कालेज में छात्राओं के बेहतर भविष्य के लिए प्लेसमेंट सेल का गठन किया गया है। कालेज के प्रिंसिपल फादर रोजर ऑगस्टिन ने बताया कि उनके यहां एमए इंग्लिश से पढ़ने वाली छात्राओं को इस तरह से शिक्षित किया जाता है कि वे स्वावलंबी बन सकें। अच्छी इंग्लिश की जानकारी हो, इसके लिए एक्सपर्ट भी रखे गए हैं।

इसी क्रम में सीआरडी ग‌र्ल्स पीजी कालेज व आर्यनगर स्थित सरस्वती विद्या मंदिर महिला पीजी कालेज में पढ़ने वाली छात्राओं को सब्जेक्ट की जानकारी के अलावा अन्य गतिविधियों में भी उन्हें पार्टिसिपेट कराया जाता है। इसी प्रकार तारामंडल स्थित इंदिरा गांधी ग‌र्ल्स कालेज में पढ़ने वाली छात्राओं के लिए भी प्लेसमेंट सेल का गठन किया गया है। प्लेसमेंट सेल के जरिए छात्राओं की पर्सनाल्टी डेवलपमेंट के साथ-साथ उन्हें कैंपस सेलेक्शन के लिए भी तैयार किया जाता है।

वर्जन

छात्राओं को पढ़ाई के साथ-साथ उन्हें रोजगार देने के लिए यूनिवर्सिटी ने तैयारी कर ली है। इसके लिए सभी कालेजेज अपने स्तर से छात्राओं के पर्सनाल्टी को ग्रूम करा सकते हैं तथा टीचिंग व बैंकिंग के क्षेत्र में कॅरियर बनाने में मददगार साबित हो सकते है।

डॉ। ओम प्रकाश, रजिस्ट्रार, डीडीयूजीयू

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.