पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ उपचार के लिए लंदन रवाना

2019-11-19T13:50:30Z

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ मंगलवार को एयर एंबुलेंस से लंदन के लिए रवाना हो गए। उन्हें एकसाथ कई बीमारियां हैं। लाहौर हाई कोर्ट ने उन्हें उपचार की खातिर चार सप्ताह के लिए विदेश यात्रा की अनुमति दी थी। उच्च न्यायालय ने इमरान सरकार की जमानती बांड पेश करने की शर्त को भी खारिज कर दिया। 69 वर्षीय शरीफ के साथ उनके छोटे भाई शहबाज शरीफ उनके निजी चिकित्सक अदनान खान और अन्य कर्मी भी हैं।

लाहौर (पीटीआई)। पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) (पीएमएल-एन) सुप्रीमो लाहौर हवाई अड्डे से वाया कतर लंदन के लिए रवाना हो गए। नवाज को लेने के लिए दोहा से आईसीयू और ऑपरेशन थियेटर से युक्त एक एयर एंबुलेंस आई थी। पीएमएलएन के प्रवक्ता मैरियूम औरानजेब ने पीटीआई को बताया कि शरीफ को उनके इलाज के लिए लंदन पहुंचने पर हरेली स्ट्रीट क्लिनिक ले जाया जाएगा। यदि आवश्यक हुआ तो उन्हें आगे उपचार के लिए अमेरिका के बोस्टन में स्थानांतरित किया जा सकता है।
यात्रा के दौरान हालत स्थित रखने को हैवी डोज

उन्होंने कहा कि प्रस्थान से पहले डॉक्टरों ने लाहौर में उनके जाति उमरा स्थित निवास पर शरीफ की जांच की। यात्रा के दौरान उनकी हालत स्थिति को स्थित बनाए रखने के लिए उन्हें स्टेरॉयड और अन्य दवाओं की भारी खुराक दी। शरीफ के चिकित्सक खान ने बुधवार देर शाम एक ट्वीट में कहा कि एयर एंबुलेंस में एक आईसीयू और एक ऑपरेशन थियेटर सेटअप किया गया है। इसमें डॉक्टरों और पैरामेडिक्स की एक टीम भी रहेगी।
डाॅक्टरों की सिफारिश से बढ़ सकती है अवधि
शरीफ कई स्वास्थ्य जटिलताओं से पीड़ित है, जिसमें अनियमित प्लेटलेट भी शामिल है। लाहौर स्थित उनके निवास पर शरीफ का इलाज चल रहा था। शनिवार को लाहौर हाई कोर्ट ने शरीफ को इलाज की खातिर चार सप्ताह के लिए विदेश यात्रा की अनुमति दी थी। चार सप्ताह की अवधि को उनके डॉक्टरों की सिफारिशों पर आगे बढ़ाया जा सकता है। इसके साथ ही कोर्ट ने शरीफ का नाम नो-फ्लाई लिस्ट या एक्जिट कंट्रोल लिस्ट (ईसीएल) से हटाने के लिए इमरान खान सरकार को आदेश भी दिया था।
इमरान सरकार की शर्त को दी हाई कोर्ट में चुनौती
पिछले हफ्ते बुधवार को, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार ने शरीफ को अपने इलाज के लिए विदेश यात्रा के लिए चार सप्ताह की एकमुश्त अनुमति दी थी। शर्त यह थी कि शरीफ को इसके एवज में 700 करोड़ रुपये की जमानती बांड पेश करना था। गुरुवार को शरीफ ने अदालत में इस शर्त को चुनौती दी। बांड की शर्त को अवैध और फंसाने वाला करार देते हुए उन्होंने कोर्ट में कहा था कि प्रधानमंत्री इमरान खान अपने राजनीतिक लाभ के लिए ऐसा किया है। हाल ही में नवाज को इस्लामाबाद हाई कोर् ने मेडिकल ग्राउंड पर आठ सप्ताह की जमानत दी थी। वे अजिया मिल्स भ्रष्टाचार केस में सात साल की कैद में थे। लाहौर हाई कोर्ट से उन्हें मनी लांड्रिंग मामले में भी जमानत मिली हुई है।


Posted By: Satyendra Kumar Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.