पानी में डूबे इलाके तो कौन होगा जिम्मेदार?

2016-06-22T07:41:07Z

वाटर लॉगिंग की हकीकत जानने निकलीं मेयर, भरे नाले देख भड़कीं

ALLAHABAD: मानसून सिर पर है। कभी भी बरसात शुरू हो सकती है। लेकिन अभी तक बड़े व चोक नाला-नालियों की सफाई नहीं हो सकी है। लगातार पब्लिक की शिकायत मिल रही है। बारिश शुरू होने के बाद अगर शहर में जलजमाव हुआ तो फिर कौन जिम्मेदार होगा? लापरवाही के इस मामले में किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। नाला सफाई में बरती जा रही लापरवाही की शिकायत व आईनेक्स्ट के अभियान डूबेगा कि बचेगा को गंभीरता से लेते हुए निरीक्षण पर निकली मेयर अभिलाषा गुप्ता ने नाला सफाई की हकीकत देखने के बाद अधिकारियों से कुछ इसी तरह के सवाल किए।

सफाई व्यवस्था मिली खराब

अधिकारियों व पार्षदों के साथ निरीक्षण पर निकली मेयर मंगलवार को दोपहर में सबसे पहले लूकरगंज पहुंचीं। यहां मध्यान नर्सिग होम से लूकरगंज पुलिस चौकी व पुलिस चौकी से मछली बाजार तक के नाले का निरीक्षण किया। हकीकत सामने आई कि नाला गंदगी व सिल्ट से भरा पड़ा है और अभी तक नाले की सफाई ही नहीं की गई है। लूकरगंज मैदान के पास दो जगह लीकेज पाया गया। लूकरगंज व मछली बाजार तिराहे तक सफाई व्यवस्था काफी खराब मिली। जिस पर मेयर ने क्षेत्रीय हवलदार अकरम के विरूद्ध कार्रवाई का निर्देश नगर स्वास्थ्य अधिकारी व जोनल अधिकारी को दिया।

बर्दास्त नहीं की जाएगी लापरवाही

लूकरगंज की स्थिति देखने के बाद मेयर अकबरपुर-निहालपुर पहुंची। यहां नाला सफाई का कार्य तो हो रहा था, लेकिन नाले से निकली सिल्ट को बीच रोड पर ही फेंक दिया गया था। सफाई के बाद भी नाला जगह-जगह भरा पाया गया। जिस पर मेयर ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि नाला सफाई के कार्य में लापरवाही बिल्कुल बर्दास्त नहीं की जाएगी। मशीन लगाकर व जरूरत पड़े तो कर्मचारी लगाकर तली तक नाले की सफाई की जाए। सिल्ट को तत्काल हटाया जाए। ताकि बारिश होने पर सिल्ट नाला में न जाए।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.