अमेरिका में 100 भारतीय हिरासत में गैरकानूनी तरीके से देश में घुसने का आरोप

2018-06-22T18:07:14Z

गैरकानूनी तरीकें से अमेरिका आने के आरोप में लगभग 100 भारतीयों को हिरासत में ले लिया गया है। अधिकारियों का कहना है कि हिरासत में लिए गए ज्यादातर लोग सिख और ईसाई हैं।

ज्यादातर सिख और ईसाई लिए गए हिरासत में
वाशिंगटन (पीटीआई)।
अवैध रूप से अमेरिका आने के आरोप में लगभग सौ भारतीयों को हिरासत में ले लिया गया है। अधिकारियों के अनुसार, लगभग 40-45 भारतीयों को दक्षिणी अमेरिकी राज्य न्यू मैक्सिको के हिरासत केंद्र में रखा गया है। और 52 भारतीयों को ओरेगन स्थित हिरासत केंद्र में रखा गया है। इनमें अधिकतर सिख और ईसाई हैं। भारतीय दूतावास दोनों हिरासत केंद्रों से संपर्क बनाए हुए है। दूतावास द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि एक वाणिज्य अधिकारी ने ओरेगन स्थित हिरासत केंद्र का दौरा किया है।
पंजाब के ज्यादातर लोग इस वक्त अमेरिका के जेलों में बंद हैं
एक अन्य अधिकारी न्यू मैक्सिको जाने वाले हैं। हम लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। न्यू मैक्सिको में एक दर्जन से ज्यादा भारतीयों को कई महीनों से हिरासत में रखा गया है। बाकी भारतीयों को यहां पर एक सप्ताह पहले ही लाया गया है। इनमें से ज्यादातर भारतीय अपने देश में हिंसा और उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए अमेरिकी प्रशासन से राजनीतिक शरण मांग रहे हैं। उत्तर अमेरिकी पंजाबी एसोसिएशन (एनएपीए) के सतनाम सिंह चहल का मानना ​​है कि पंजाब से आने वाले ज्यादातर भारतीय इस वक्त अमेरिका के जेलों में बंद हैं, उनकी संख्या करीब हजारों में है।
तीन वर्षों में 27,000 से अधिक लोगों की गिरफ्तारी
बता दें कि एनएपीए ने हाल ही में सूचना स्वतंत्रता अधिनियम (एफओआईए) के माध्यम से 2013, 2014 और 2015 के बीच अमेरिकी सीमा पर गिरफ्तार किये गए भारतीयों का एक आकड़ा निकाला था। इसमें पता चला कि उस दौरान 27,000 से अधिक भारतीयों को सीमा पर गिरफ्तार किया गया था। इनमें से 4,000 से अधिक महिलाएं और करीब 350 बच्चे थे।

ट्रंप ने जापान को दी धमकी, कहा भेज देंगे 2.5 करोड़ मेक्सिकन नागरिक

उत्तर कोरिया के साथ हमारा समझौता चीन के लिए अच्छा होगा : ट्रंप

Posted By: Mukul Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.