बुद्ध सर्किट को बजट की संजीवनी

2019-07-11T11:00:58Z

- इंडिया से नेपाल रेलवे ट्रैक सर्वे के लिए बजट जारी, लास्ट इयर रेलवे ने इसके लिए नहीं दिया था बजट

- सहजनवां-दोहरीघाट के बीच रेल के सर्वे को कोई बजट नहीं

- कुशीनगर रेलवे लाइन के लिए 10 के बजाए 5 लाख का बजट जारी

GORAKHPUR: इंडिया में टूरिस्ट का जमावड़ा हो और यहां सैलानियों की तादाद में इजाफा हो, इसके लिए रेलवे ने बजट की संजीवनी दी है। मोस्ट अवेटेड बौद्ध सर्किट प्रोजेक्ट के सर्वे को इस बार रेलवे ने 5 लाख रुपए का बजट जारी किया है। एनई रेलवे को इस मद में बजट अलॉट किया गया है। प्री-इंस्पेक्शन के लिए जारी इस बजट से रेलवे कुशीनगर और कपिलवस्तु के बीच ट्रैक की संभावनाएं तलाशेगा। इसके साथ ही पडरौना-कुशीनगर-गोरखपुर के बीच नई रेलवे लाइन के लिए भी बजट में 10 लाख रुपए जारी किए गए हैं। वहीं इस बार सहजनवां-दोहरीघाट के बीच रेल लाइन सर्वे के लिए इस बार कोई बजट नहीं दिया गया है।

2017-18 में मिला था पैसा

बौद्ध सर्किट के लिए रेलवे बोर्ड ने पहले ही मंजूरी दे दी थी। प्रोजेक्ट के सर्वे के लिए अनुमानित लागत करीब 60.5 लाख रुपए तय की गई थी, जिसमें गवर्नमेंट ने 2017-18 में इसके लिए 39 लाख का बजट जारी भी कर दिया था। इसका काम भी शुरू हो गया, मगर लास्ट इयर बजट में इसके लिए कोई भी रकम नहीं मिल सकी। जिसकी वजह से साल भर तक इस प्रोजेक्ट में कोई काम नहीं हो सका। इस बार फिर बजट में इसके लिए पांच लाख रुपए जारी कर दिए हैं। इससे एक बार फिर जहां बौद्ध सर्किट पर ट्रेन दौड़ने की उम्मीदें बढ़ गई हैं, तो वहीं दूसरी ओर इंडिया और नेपाल के संबंध भी मजबूत होंगे और इससे इंपोर्ट और एक्सपोर्ट के ऑप्शन भी बेहतर हो जाएंगे।

एनई रेलवे के इन प्रोजेक्ट्स को पैसा

रेलवे लाइन सर्वे लागत (हजार में) बजट (हजार में) बची रकम (हजार में)

कुशीनगर-कपिलवस्तु 6045 500 1632

हल्द्वानी-रीठा साहिब 525 10 314

पडरौना-कुशीनगर-गोरखपुर 1125 10 825

जिलाही-टिकरी 150 10 133

गुरसहायगंज-भोगांव-छिब्रामऊ 1050 500 50

बहराइच-मेंहदावल 21000 1284 13321

बढ़नी-काठमांडू 5385 1286 2008

डोमिनगढ़-गोरखपुर-कैंट 2115 500 1265

आनंदनगर-घुघली 5000 500 2547

कपिलवस्तु-बांसी-बस्ती 9100 1000 4433

गोरखपुर-वाल्मिकीनगर 4550 1000 2747

गोरखपुर-पडरौना-कुशीनगर 8000 500 6195

नौतनवां-भैरवां 1875 500 865

इन रेल लाइन सर्वे के लिए बजट नहीं

रेलवे लाइन सर्वे लागत (हजार में) बची रकम (हजार में)

वाराणसी-आजमगढ़-गोरखपुर 3000 2440

सहजनवां-दोहरीघाट 7000 6102

बस्ती-फैजाबाद 1005 710

फर्रुखाबाद-फाफुंद 1350 629

कानपुर-कासगंज-मथुरा 13728 6275

फर्रुखाबाद-मैलानी 2364 1864

किसके लिए कितना बजट-

नई लाइन निर्माण - 226.30 करोड़

गेज कनवर्जन - 255.10 करोड़

दोहरी लाइन - 902.00 करोड़

संरक्षा कार्य (आरओबी/अंडर ब्रिज वर्क) 176.63 करोड़

रेलपथ नवीकरण - 457.00 करोड़

कर्मचारी कल्याण- 41.24 करोड़

पैसेंजर्स एमिनिटीज - 186.17 करोड़

यह मिली नई लाइन

मऊ-गाजीपुर-ताड़ीघाट(51 किमी.) - 200.00 करोड़

बहराइच-श्रावस्ती-बलरामपुर(80 किमी.) - 10.00 करोड़

गेज कनवर्जन

लखनऊ-पीलीभीत बरास्ता सीतापुर-लखीमपुर(262.8 किमी.) - 100.00 करोड़

इन्दारा-दोहरीघाट (34.4 किमी.) - 15.00 करोड़

पीलीभीत-शाहजहांपुर (84.1 किमी.) - 125.00 करोड़

टै्रक डबलिंग

छपरा-बलिया (65 किमी.) - 100.00 करोड़

गाजीपुर सिटी-औडि़हार (40 किमी.) - 60.00 करोड़

बलिया-गाजीपुर सिटी (65 किमी.) - 91.00 करोड़

रोजा-सीतापुर-बुढ़वल (181 किमी.) - 152.00 करोड़

वाराणसी-माधोसिंह-इलाहाबाद(120 किमी.) - 180.00 करोड़

डोमिनगढ़-गोरखपुर-गोरखपुर छावनी-कुसुम्ही तीसरी रनिंग लाइन व गोरखपुर नकहा जंगल दूसरी रनिंग लाइन (21.15 किमी.) - 16.00 करोड़

भटनी-औडि़हार विद्युतीकरण सहित (125 किमी.) - 50.00 करोड़

बुढ़वल-गोंडा तीसरी लाइन (61.7 किमी) - 100.00 करोड़

औडि़हार-जौनपुर (60 किमी.) - 25.00 करोड़

मल्हौर-डालीगंज विद्युतीकरण सहित (12.6 किमी.) - 50.00 करोड़


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.