अगले महीने से बढ़े टैरिफ के लिए तैयार रहें रिलायंस जियो यूजर्स

Updated Date: Wed, 20 Nov 2019 06:12 PM (IST)

दूरसंचार नियामक ट्राई के निर्देश पर टेलीकॉम कंपनियां इस प्रकार के कदम उठा रही हैं। ट्राई ने यह निर्देश दूरसंचार सेक्टर में मजबूती के लिए उठाया है।


मुंबई (एएनआई)। आने वाले कुछ हफ्तों में रिलायंस जियो टैरिफ के दाम बढ़ा देगी। कंपनी की ओर से यह बयान तब आया है जब भारतीय दूरसंचार नियामक (ट्राई) ने टेलीकाॅम सेक्टर की मजबूती और निवेश को लेकर दूरसंचार कंपनियों को निर्देश जारी किए हैं।ट्राई का निर्देश, जियो की दरें भी अब हो जाएंगी महंगीजियो ने अपने बयान में कहा कि अन्य ऑपरेटरों की तरह वह भी सरकार के साथ मिलकर काम करेगी। वह भारतीय उपभोक्ताओं को प्राॅफिट शेयर करने और दूरसंचार उद्योग को मजबूत करने के लिए ट्राई के फैसले का पालन करेंगे। इसके तहत कंपनी अगले कुछ हफ्तों में टैरिफ के मूल्य में उचित वृद्धि करेंगे जिससे डेटा की खपत, डिजिटलाइजेशन और इनवेस्टमेंट्स पर कोई बुरा असर न पड़े।वोडाफोन, आइडिया, एयरटेल अगले महीने बढ़ाएंगे मूल्य
वहीं वोडाफोन, आईडिया और एयरटेल ने कहा कि वो अगले महीने से टैरिफ मूल्य बढ़ाएंगे। हालांकि तीनों कंपनियों ने दरों को लेकर कोई  जानकारी नहीं दी है। जियो के मुताबिक कंपनियों के इस कदम से इंडियन टेलीकाॅम के सेक्टर में नई क्रांति आएगी क्योंकि लोग आज डाटा सेंट्रिक टेक्नोलाॅजी से घिरे हुए हैं। कंपनी भारत को दुनिया भर का सबसे बड़ा डिजिटल लीडर बनाना चाहती है। जियो की माने तो भारत में 2016 में 20 करोड़ जीबी हर महीने डाटा खपत थी, जो अब बढ़ कर 600 करोड़ जीबी हर महीने हो गया है। भारत दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ने वाला डिजिटल मार्केट है।सुप्रीम कोर्ट के आदेश की मार से बेहाल कंपनियांएयरटेल के 28 करोड़ यूजर्स, वोडाफोन आइडिया के 31 करोड़ यूजर्स हैं। वहीं जियो के मार्केट में 35 करोड़ कस्टमर्स हैं और टेलीकाॅम सेक्टर में ये इकलौती ऐसी कंपनी है जो प्राॅफिट में है। एयरटेल और वोडाफोन आइडिया पर सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले की मार पड़ी है जिसमें एडजेस्टेड ग्राॅस रेवेन्यू (एजीआर) का दायरा बढ़ा दिया गया है जो लाइसेंस फीस और स्पेक्ट्रम यूजेज चार्जेज देने से संबंधित था। इस आदेश के बाद इन कंपनियों को तीन महीने के भीतर 80 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा सरकार चुकाने होंगे।टैरिफ बढ़ाने से आएगी टेलीकाॅम सेक्टर में मजबूती


लगातार बढ़ रहे डाटा डिमांड को ध्यान में रखकर टेलीकाॅम सेक्टर में निवेश के लिए दूरसंचार कंपनियों को अब अपने टैरिफ रेट बढ़ाने पड़ रहे हैं। सस्ती दरों की वजह से दूरसंचार सेक्टर नेटवर्क दुरुस्त नहीं कर पा रहा है जिससे सेवाएं प्रभावित हो रही हैं। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए ट्राई ने टेलीकाॅम कंपनियों को निर्देश जारी किए हैं, जिनमें एक टैरिफ दरों में बढ़ोतरी करना भी शामिल है।Reliance Jio कस्टमर्स को दूसरे नेटवर्क पर वॉयस कॉल के लिए चुकाना होगा 6 पैसे प्रति मिनट का शुल्क

Posted By: Vandana Sharma
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.