सीरम इंस्टीट्यूट आग में मारे गए लोगों के परिजनों को अनिवार्य राशि के अलावा देगी 25-25 लाख रुपये

राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने गुरुवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में लगी आग की घटना में जान गंवाने वाले पांच लोगों के निधन पर दुख व्यक्त किया। वहीं सीरम इंस्टीट्यूट ने ऐलान किया कि हम मानदंडों के अनुसार अनिवार्य राशि के अलावा प्रत्येक पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की पेशकश करेंगे।

Updated Date: Fri, 22 Jan 2021 11:26 AM (IST)

पुणे (एएनआई)। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने गुरुवार को पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) में आग की घटना में अपनी जान गंवाने वाले पांच लोगों के निधन पर दुख व्यक्त किया। राष्ट्रपति कोविंद ने ट्वीट किया, पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में आग से हुई दुर्घटना में लोगों की जान चली गई है। मेरे संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। मैं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं। पीएम मोदी ने भी आग की घटना से हुई मौतों पर शोक व्यक्त किया ट्वीट किया कि भारत के सीरम इंस्टीट्यूट में लगने के कारण लोगों की जान गई है। इस दुख की घड़ी में, मेरी संवेदनाए दुखी परिवार के साथ हैं। इसके साथ ही मैं घायलों के जल्दी ठीक होने की दुआ करता हूं।

Anguished by the loss of lives due to an unfortunate fire at the @SerumInstIndia. In this sad hour, my thoughts are with the families of those who lost their lives. I pray that those injured recover at the earliest.

— Narendra Modi (@narendramodi) January 21, 2021


अनिवार्य राशि के अलावा प्रत्येक परिवार को 25 लाख रुपये की मदद
वहीं सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने आग हादसे में मारे पांचों लोगों के परिजनों को 25-25 लाख रुपये का आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। इस संबंध में सीरम इंस्टीट्यूट के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर सायरस पूनावाला ने कहा कि आज सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में हम सबके लिए एक बेहद ही दुख भरा दिन है। अफसोस की बात है कि मंजरी में स्पेशल इकोनॉमिक जोन स्थित हमारे अंडर इंस्टॉलेशन फैसिलिटी में लगी आग में जानमाल का नुकसान हुआ। हम बहुत दुखी हैं और दिवंगत के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हैं। इस संबंध में, हम मानदंडों के अनुसार अनिवार्य राशि के अलावा प्रत्येक परिवार को 25 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की पेशकश करेंगे।

Posted By: Shweta Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.