उत्तराखंड में टूरिस्ट्स से ली जाने वाली फीस कम करेगी सरकार

2020-01-24T05:45:56Z

- टूरिस्ट्स की सिक्योरिटी पर होगा स्पेशल फोकस, गंगोत्री-गोमुख रूट पर जाने वाले टूरिस्ट की संख्या बढ़ेगी

DEHRADUN: टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने वन मंत्री डा। हरक सिंह रावत के साथ बैठक की। बताया गया कि टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए जटिल प्रक्रिया को आसान किया जायेगा। इसके अलावा टूरिस्ट्स की सुरक्षा को विशेष महत्व दिया जायेगा। स्पेशल ट्रैकिंग रूट को पहचान कर पर्यटन ग्लोब पर लाया जायेगा। गंगोत्री-गोमुख रूट पर जाने वाले टूरिस्ट्स की संख्या बढ़ाने के लिए प्रयास किए जाएंगे।

टूरिस्ट को अट्रैक्ट करने को करेंगे कॉर्डिनेट

पर्यटन मंत्री ने बताया कि टूरिस्ट्स को सिंगल विंडो सिस्टम के आधार पर अनुमति प्रदान किये जाने के लिए कार्य योजना बनायी जायेगी। वहीं वन मंत्री डा। हरक सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड हरित प्रदेश के रूप में जाना जाता है। ईको टूरिज्म पर विशेष ध्यान रखते हुए पर्यटन और वन एवं पर्यावरण के संरक्षण के बीच संतुलन स्थापित किया जायेगा। एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए ट्रैकिंग रूट के मरम्मत करने की अनुमति प्रदान की जायेगी। टूरिस्ट्स से लिए जाने वाली फीस को कम करने का प्रस्ताव लाया जाएगा। टूरिज्म व वन विभाग टूरिस्ट्स को अट्रैक्ट करने के लिए आपसी समन्वय स्थापित कर सुविधाएं प्रदान करेंगे। बताया गया कि टूरिस्ट को अट्रैक्ट करने के लिए सुविधाएं प्रदान करने के लिए सिंगल विंडो सिस्टम के आधार पर अनुमति प्रदान करने के लिए कार्य योजना बनायी जायेगी। इस उद्देश्य से ट्रैक रूट का अध्ययन किया जायेगा। अभी तक डीएफओ, डीएम, एलआईयू व वन विभाग जैसे स्तरों पर अनुमति दी जाती है। बैठक में अपर सचिव पर्यटन सोनिका, एमडी जीएमवीएन ईवा आशीष श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

ये रूट्स डेवलप करने पर स्वीकृति

- मोदी ट्रेल ट्रैकिंग रूट

- केदारनाथ ट्रेल टै्रैकिंग रूट

- विवेकानन्द ट्रेल ट्रैकिंग रूट

- केदारनाथ ध्यान गुफा ट्रेल ट्रैकिंग रूट


Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.