बदली सोच, बढ़ाया कदम, कराया एहसास अकेले नहीं दिव्यांग

Updated Date: Sun, 14 Feb 2016 02:10 AM (IST)

आई नेक्स्ट की सोच बदलो मुहीम जुड़े सैकड़ो हाथ

लायंस क्लब संगम व संवेदना ट्रस्ट ने मिलकर कराई दिव्यांग स्पोट्स मीट

सीएमओ ने लगवाया विशेष शिविर, आन द स्पॉट बने दिव्यांग सर्टिफिकेट

दी गई सरकारी योजनाओं की जानकारी, दिव्यांगों का हौसला बढ़ाने कंपनी बाग में जुटे शहरी

ALLAHABAD@imext.co.in

ALLAHABAD: पहल आई नेक्स्ट ने की थी। समाज को संवेदनशील बनाने की। एक ऐसे इश्यू पर जो सबके लिए दिव्यांगों को एहसास कराए कि वे समाज से कटे नहीं हैं। इस संवेदनशील मुद्दे पर शहरियों ही नहीं हेल्ड डिपार्टमेंट और समाज सेवी एक साथ खड़े दिखे। आई नेक्स्ट की कैंपेन के साथ जुड़कर संवेदना ट्रस्ट ने दिव्यांग बच्चों के लिए स्पो‌र्ट्स मीट आयोजित की तो लायंस क्लब संगम के मेम्बर्स ने उन्हें गिफ्ट सौंपने का बीड़ा उठाया। क्लब के सदस्यों ने खुद खड़े रहकर उनका हौसला बढ़ाया। सीएमओ ऑफिस ने स्पेशल कैंप लगाकर दिव्यांगों का मेडिकल सर्टिफिकेट बनवाया और सरकारी योजनाओं की जानकारी दी। इससे सुबह कंपनी गार्डेन का माहौल बदला-बदला सा नजर आया।

हम किसी से कम नहीं

जो चीज जन्म से कमजोरी बनी थी, उसी को इन नन्हें बच्चों ने अपनी मजबूती बनाकर इस्तेमाल किया तो परिणाम बदल गया। उन्होंने न केवल एक मंझे हुए स्पो‌र्ट्सपर्सन की तरह अपनी परफॉर्मेस दी, बल्कि प्राइज जीतकर अपने माता-पिता का सिर भी गर्व से ऊंचा कर दिया। शनिवार सुबह कंपनी बाग में सैकड़ों की संख्या में दूर-दराज से दिव्यांग अपने पैरेंट्स के साथ वहां होने वाली स्पो‌र्ट्स एक्टिविटीज में हिस्सा लेने पहुंचे। कोई स्टिक रेस तो कोई थ्रो बॉल में अपना टैलेंट दिखा रहा था। क्रिकेट में व्हील चेयर पर बैठकर शॉट लगाए तो फुटबाल में भी दांव आजमाया। कैरम में भी बच्चों की रुझान देखते बन रहा था। सुबह नौ बजे मीट की शुरुआत स्टिक रेस से हुई। इसमें एक दर्जन से अधिक दिव्यांगों ने पार्टिसिपेट किया।

ये रहे विनर

गेम का नाम विनर्स का नाम

फ‌र्स्ट सेकंड थर्ड

1- स्टिक रेस (ग्रुप वनन) पवन मिथिलेश

ग्रुप टू रोशन अभिषेक

2- सेल्फ वॉक (ग्रुप वन) शशांक अब्दुल

ग्रुप टू शालू श्रुति

3- बॉल थ्रो हरिओम अनीषा सईद

4- क्रॉल रेस (ग्रुप वन) पवन प्रिया

गुप टू अमन शालू

ग्रुप थ्री पीयूष प्रियंका

ग्रुप फोर प्रीतम विक्की

ग्रुप फाइव शंकर अल्तमश

ग्रुप सिक्स कृष्णा कार्तिक

ग्रुप सेवेन शौर्य दिया

ग्रुप एट जय प्रग्यांशु

ग्रुप नाइन भावना सईद

ग्रुप टेन परि अवि

ग्रुप इलेवन सुजल उत्कर्ष

ग्रुप टवेल्थ कीर्ति अभिषेक

ग्रुप थर्टीन सौम्य सोना

5- फुटबाल पवन श्रुति जयेश

6- कैरम प्रिया हरिओम

7- क्रिकेट (बैटिंगग) अमन श्रुति शांतनु

बॉलिंग लव पवन प्रग्यांशु

(इसके अलावा बेहतर खेल के लिए शांतम, रिषभ, अभिषेक यादव, पार्थ समेत कई बच्चों को भी सम्मानित किया गया.)

बाक्स

विदेश से भी आए थे बच्चे

विशेष बच्चों के लिए समर्पित संस्था संवेदना ट्रस्ट ने डायरेक्ट इनवाल्व होकर स्पोटर्स मीट के लिए कुल 120 दिव्यांग बच्चों को आमंत्रित किया। इनमें यूपी ही नहीं राजस्थान, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, मध्य प्रदेश, बिहार, पंजाब प्रांतों के बच्चों को बुलाया गया। आई नेक्स्ट की इस पहल के साथ लायंस क्लब संगम गिफ्ट पार्टनर के रूप में जुड़ा। बच्चों के पैरेंट्स का कहना था कि ऐसे आयोजन लगातार होने रहने चाहिए। इससे बच्चों का आत्मबल और हौसला दोनों में वृद्धि होती है। सऊदी अरब के जद्दा शहर से सैय्यद मुशफीक अहमद, यूके लंदन से उमैर तलर सिद्दीकी, बांग्लादेश से शामी रॉय और नेपाल से कृष्णा मधेषिया आदि बच्चों ने भी शिरकत की।

बाक्स फोटो के साथ

दो दर्जन बच्चों के बनाए गए दिव्यांग सर्टिफिकेट

कार्यक्रम के दौरान दिव्यांगों के लिए सरकार की ओर से चलाई जाने वाली लाभकारी योजनाओं के बारे में बैनर और बोर्ड लगाकर बताया गया। सीएमओ डॉ। पदमाकर सिंह के निर्देशन पर एसीएमओ डॉ। पीएस चतुर्वेदी, डॉ। पीसी दुबे और डॉ। गोवर्धन दास ने मौके पर ही दो दर्जन बच्चों के विकलांग सर्टिफिकेट बनाए। पैरेंट्स ने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि अब उन्हें सर्टिफिकेट बनवाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। उन्हें रेलवे, बस आदि की यात्रा में कंसेशन के साथ दिव्यांगों को मिलने वाले दूसरे लाभ आसानी से मुहैया हो सकेंगे। इसके साथ ही संवेदना ट्रस्ट की ओर से दर्जनों बच्चों को केंद्र सरकार की योजना निरामया कार्ड के फॉर्म भी ऑन द स्पॉट भरवाए गए। जिन बच्चों के विकलांग सर्टिफिकेट बने वह इस प्रकार रहे-

इनके बने दिव्यांग सर्टिफिकेट

शिवम गुप्ता 12 साल

मगन तीन साल

आर्वि ढाई साल

मानस चार साल

आनंद सिंह ढाई साल

अल्तमश पांच साल

सुप्रिया आठ साल

ताहिर डेढ़ साल

पीयूष कुमार सात साल

रोशन कुमार 11 साल

शिवशंकर पाल नौ साल

साल्वी निषाद नौ साल

आयुष सिंह एक साल

अंश तीन साल

रोहित तीन साल

शंकर राय आठ साल

शिवानी छह साल

मो। शादाब तीन साल

अंश चार साल

साक्षी एक साल

अनीषा कुमारी एक साल

लायंस क्लब संगम ने बांटे प्राइज

लायंस क्लब इलाहाबाद संगम और संवेदना ट्रस्ट की ओर से विनर्स को ट्राफी देकर उनका हौसला बढ़ाया गया। दोनों संस्थाओं की ओर से मुख्य रूप से क्लब प्रेसीडेंट इरा सेठी, ऋषि सेठी और ट्रस्ट सचिव डॉ। जितेंद्र जैन की पत्‍‌नी और ट्रस्टी डॉ। वरिद माला जैन और अध्यक्ष डॉ। जयव‌र्द्धन राय ने पुरस्कार वितरण किया। लायंस क्लब की ओर से आशीष अरोरा, अनुपम सोबती, मनीष रावल, भावना रावल, सुशील, राकेश सेठ, कमल बहल, ओम प्रकाश, भरत, पंकज महेश्वरी आदि ने शिरकत की। आई नेक्स्ट इलाहाबाद के समाचार संपादक श्याम शरण श्रीवास्तव ने भी बच्चों की हौसला अफजाई की।

इनकी देखरेख में हुआ कार्यक्रम

दिव्यांगों बच्चों को स्पो‌र्ट्स के लिए प्रेरित करना आसान नहीं होता। उनको सपोर्ट और टेक्निकल एडवाइस की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। कार्यक्रम के दौरान बच्चों को गाइड करने के लिए संवेदना ट्रस्ट के थेरेपिस्ट विनय कुमार श्रीवास्तव, दीप चंद्र गुप्ता, संजय द्विवेदी, योगेश मिश्रा, वेद राजपूत, शशि मणि गौतम, राज कुमार, अंकिमा, डॉ। प्रीति, डॉ। शिवम, डॉ प्रभात, डॉ। अच्युत, डॉ। अंकित आदि मौजूद रहे।

बॉक्स

आई नेक्स्ट ने चलाई थी मुहिम

शनिवार सुबह कंपनी बाग में आयेाजित दिव्यांग स्पो‌र्ट्स मीट आई नेक्स्ट द्वारा चलाए गए कैंपेऩ 'सोच बदलो' का नतीजा था। आठ फरवरी से चलाए गए इस कैंपेन में हमने दिव्यांगों को लेकर सोसायटी और सिस्टम के रुख को संवेदनशील तरीके से उजागर किया था। हमने बताया कि रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, गेम्स, सरकारी योजनाओं आदि मुद्दों पर दिव्यांगों को दरकिनार कर दिया जाता है। उनका हक उन्हें मिलता। समाज उन्हें अपना अंग नहीं मानता। इसी को देखते हुए सहयोगी संस्थाओं ने आगे आकर एक मिसाल कायम की और बच्चों को खुद की क्षमताओं को पहचानने का अवसर दिव्यंाग स्पो‌र्ट्स मीट के जरिए दिया।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.