हिन्दी की बिंदी सुधारने में पीछे रह गए ढाई लाख से अधिक स्टूडेंट्स

Updated Date: Wed, 13 Feb 2019 09:37 AM (IST)

-अनिवार्य विषय की परीक्षा छोड़ने वालों में दसवीं के सबसे अधिक स्टूडेंट्स


prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ: यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में मातृ भाषा हिन्दी के अनिवार्य पेपर में भी लाखों की संख्या में स्टूडेंट्स् ने परीक्षा छोड़ दी। दसवीं व बारहवीं के हिंदी के पेपर में कुल दो लाख 63 हजार से अधिक परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। अगर हिंदी की बिंदी सुधार से पलायन करने वालों में दसवीं के छात्र सबसे अधिक रहे। दसवीं में अनिवार्य विषय हिंदी में कुल दो लाख से अधिक परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। जबकि अभी कई प्रमुख विज्ञान, गणित, अंग्रेजी जैसे विषयों की परीक्षा होनी शेष है। पहली पाली में हिंदी व प्रारम्भिक हिंदी और इंटर में वाणिज्य एवं व्यवसायिक वर्ग की परीक्षाओं का आयोजन हुआ। इसके लिए कुल 8354 परीक्षा केन्द्रों पर 32 लाख 8 हजार 451 परीक्षार्थी पंजिकृत थे। जबकि दूसरी पाली में इंटर में हिंदी, सामान्य हिंदी की परीक्षा 8291 केन्द्रों पर हुई। दूसरी पाली की परीक्षा के लिए 25 लाख 27 हजार 664 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। बोर्ड के अधिकारियों के अनुसार हाईस्कूल की परीक्षा में दो लाख नौ हजार 383 और इंटर में परीक्षा छोड़ने वाले परीक्षार्थियों की संख्या 54367 रही। जबकि अगर तीन दिन की परीक्षा के दौरान परीक्षा छोड़ने वाले परीक्षार्थियों की संख्या पर नजर डाले तो उनका आंकड़ा अब तक 3 लाख 12 हजार 844 तक पहुंच गई। मंगलवार को यूपी बोर्ड की दोनों पालियों की परीक्षा में कुल 53 नकलची पकड़े गए। इसमें दसवीं में 41 व 12वीं की बोर्ड परीक्षा में 10 नकलची पकड़े गए।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.