लौटेंगे वो पल फिर होगी स्कूलों में चहल-पहल

Updated Date: Sat, 03 Oct 2020 07:48 AM (IST)

-15 अक्टूबर से खुल सकते हैं स्कूल

-गाइड लाइन आते ही स्कूलों में शुरू हुई तैयारी

GORAKHPUR: फिर आएगा वो पल स्कूलों में दिखेगी चहल-पहल जी हां महीनों से स्कूलों में पसरा सन्नाटा अब टूटने वाला है। शासन के 15 अक्टूबर से स्टेप वाइज स्कूल व कोचिंग सेंटर खोले जाने के फरमान के बाद सभी संस्थानों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। हालांकि स्कूलों को खोलने से पहले कोरोना संक्रमण को लेकर शहर की स्थिति को देखते हुए और प्रबंधन से बात करने तथा पैरेंट्स से परमिशन आदि प्वाइंट को ध्यान में रखकर ही जिला प्रशासन लास्ट डिसिजन लेगा। स्कूल और कोचिंग को खोलने के दौरान प्रदेश सरकार की गाइड का हर हाल में पालन कराना होगा।

स्कूल तैयार कर रहे अलग-अलग गेट

स्कूल एसोसिएशन ने स्कूल खुलने पर कोविड-19 के मद्देनजर सुरक्षा के इंतजाम पहले से ही तय कर रखे हैं। इसके तहत प्रवेश व निकास गेट से बिना मास्क के प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। प्रवेश के दौरान मुख्य द्वार पर होगी थर्मल स्क्रीनिंग, एक क्लास में सिर्फ 20 स्टूडेंट को बैठने की अनुमति होगी। स्कूल आने वाले स्टूडेंट के लिए आने-जाने के लिए अलग-अलग गेट होंगे। एक शिफ्ट में आने वाले दोनों क्लास के स्टूडेंट अलग-अलग गेट से एंट्री करेंगे। हर डेस्क पर स्टूडेंट के नाम की पर्ची चस्पा होगी। इंटरवल में स्टूडेंट एक दूसरे से टिफिन व पानी शेयर नहीं कर सकेंगे। साथ ही स्कूल में नहीं होगी एसेंबली तथा परिसर में कैंटीन भी बंद रहेगी।

अटेंडेंस पर नहीं रहेगा जोर

सीबीएसई को-आर्डिनेटर अजीत दीक्षित ने बताया कि 10 वीं और 12वीं एग्जाम के लिए 75 परसेंट अटेंडेंस जरूरी होता है। इस बार कोरोना की वजह से ऑनलाइन क्लास में अटेंडेंस का मिलान कर पाना मुश्किल है। सीबीएसई ने भी सर्कुलर जारी कर बताया है कि इस बार अटेंडेंस का कोई मामला नहीं रहेगा। जो स्कूल खुलने के बाद भी स्टूडेंट ऑनलाइन पढ़ाई ही करना चाहते हैं तो उसकी डिमांड हर हाल में पूरी करनी होगी। मतलब स्टूडेंट एक हो या दो वे अगर स्कूल नहीं आना चाहते तो उनके लिए ऑनलाइन क्लास जारी रहेगी।

सीबीएसई स्कूल- 113

आईसीएससीई स्कूल-18

माध्यमिक स्कूल- 485

कोट

सीनियर सेक्शन के बच्चों की क्लास चलाने की तैयारी हमलोगों ने पहले से ही कर रखी है। पैरेंट्स की परमिशन व शासन का दिशा-निर्देश का पालन करते हुए पहले क्लास 9 से 12 तक के बच्चों को स्कूल बुलाया जाएगा। इसके बाद स्थिति सामान्य होने पर नीचे की क्लास चलाई जाएगी।

अजय शाही, अध्यक्ष, गोरखपुर स्कूल एसोसिएशन

स्कूल खोलने को लेकर जैसे ही सरकार की गाइड लाइन आती है, उसका पालन सुनिश्चित कराया जाएगा। गाइड लाइन में यह भी स्पष्ट रूप से निर्देश होगा कि पहले कौन-कौन सी कक्षाएं संचालित होंगी।

ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया, डीआइओएस

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.