रडार पर बनारस डिग्री वाले टीचर

Updated Date: Fri, 10 Jul 2020 07:36 AM (IST)

- बनारस संस्कृत विश्वविद्यालय की डिग्री पर बने टीचर्स के डॉक्यूमेंट की होगी जांच

- शासन ने गोरखपुर भेजी 276 टीचर्स की डिटेल

GORAKHPUR: कई जिलों में सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्री पर परिषदीय स्कूल में टीचर बनने की शिकायत आने के बाद पूरे प्रदेश में ऐसे शिक्षकों के दस्तावेज खंगाले जा रहे हैं। जिन्होंने परिषदीय स्कूल में नौकरी सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय की डिग्री के आधार पर पाई हो। इस संबंध में शासन ने 276 टीचर्स का डाटा तैयार कर गोरखपुर भेजा है। ये सभी टीचर्स सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय से बीए या बीएड किए हुए हैं। अब इनकी सारी डिटेल गोरखपुर बीएसए ऑफिस से मांगी गई है।

पहले से चल रही धरपकड़

परिषदीय स्कूलों में फर्जी टीचर्स की धरपकड़ पहले से ही चल रही थी लेकिन कस्तूरबा विद्यालय में अनामिका शुक्ला के प्रकरण के बाद से फर्जी टीचर्स की जांच में तेजी आई है। अनामिका शुक्ला प्रकरण के बाद गोरखपुर में पहले कस्तूरबा विद्यालय में तैनात टीचर्स का बायोमैट्रिक वेरिफिकेशन हुआ। उसके बाद शिक्षामित्रों और अनुदेशक भी जांच के दायरे में हैं। हालांकि कस्तूरबा विद्यालय में अनामिका नाम की काई टीचर नहीं मिली।

आगरा की डिग्री पर भी फर्जीवाड़ा

अभी अनामिका प्रकरण चल ही रहा था। इसी बीच पहले आगरा विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्री पर बड़ी संख्या में टीचर्स के नौकरी खुलने का मामला सामने आ गया। अब सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय के फर्जी डिग्रीधारियों की पहचान की जा रही है। इससे जुड़ी तमाम शिकायतें शासन तक पहुंची हैं। इसी की जांच के अन्तर्गत गोरखपुर में सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय की डिग्री पर 276 टीचर्स अलग-अलग ब्लॉक में नौकरी कर रहे हैं। इन टीचर्स की डिटेल शासन से गोरखपुर पहुंच गई है। जिसके बाद इनकी सारी डिटेल खंगाली जा रही है।

भेजी जाएगी सूची

सूची भेजने के साथ ही इन सभी टीचर्स के अन्य अभिलेखों के सत्यापन का कार्य भी प्राथमिकता के आधार पर शुरू होगा। शासन की ओर से साफ कहा गया है कि जितने भी टीचर्स इस विश्वविद्यालय की डिग्री का प्रयोग कर रहे हैं। उन सभी टीचर्स की डिग्री के साथ ही अन्य सभी दस्तावेजों की गहनता से जांच कर सत्यापन कराया जाए। इसके बाद सूची शासन को भी भेजी जाए।

अधिकांश ब्लॉक में मिले टीचर्स

सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय की डिग्री पर नौकरी करने वाले टीचर्स अधिकांश ब्लॉक में मिले। जिन्होंने नौकरी के लिए इसी विश्वविद्यालय की डिग्री का प्रयोग किया है। जिले में 276 परिषदीय टीचर्स ऐसे मिले हैं।

यहां तैनात हैं टीचर

उरुवा - 11

बड़हलगंज - 23

बेलघाट - 24

भदौरा - 1

भटहट - 1

ब्रहम्पुर - 11

कैम्पियरगंज - 25

चरगांवा - 10

गगहा - 24

गोला - 22

गोरखपुर - 1 में 4

जंगल कौडि़या - 4

कौड़ीराम - 26

खजनी - 12

खोराबार - 1

पाली - 3

पिपराइज - 16

पिपरौली - 7

सहजनवां - 20

सरदार नगर - 10

वर्जन

सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्री पर कुछ टीचर्स बनने का कुछ जगहों पर मामला आया है। जिसके बाद गोरखपुर में तैनात 276 टीचर्स की डिटेल शासन से भेजी गई है। इनके डॉक्यूमेंट का वेरीफिकेशन कराया जा रहा है।

बीएन सिंह, बीएसए

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.