आपके साथ से कोरोना को दूर भगाएंगे और फिर से रौनक लाएंगे

Updated Date: Sun, 27 Sep 2020 06:48 AM (IST)

82.86 प्रतिशत रिकवरी रेट प्रदेश में

82.35 प्रतिशत रिकवरी रेट राजधानी में

2 दिन में 50 फीसदी केस गिरावट राजधानी में

- राजधानी समेत पूरे प्रदेश में कोरोना रिकवरी रेट में वृद्धि

- 25 से 30 फीसदी लोग प्रॉपर मास्क नहीं लगा रहे

- फिजिकल डिस्टेंसिंग भी फॉलो नहीं कर रहे

LUCKNOW: कोरोना की दृष्टि से लखनवाइट्स के लिए पिछले दो दिन राहत भरा संदेश लेकर आए हैं। पिछले दो दिन में जहां कोरोना केस के ग्राफ में गिरावट दर्ज की गई है, वहीं स्वस्थ होने वालों का प्रतिशत 82 प्रतिशत से ऊपर पहुंच गया है। हालांकि अभी करीब 25 से 30 फीसदी लोग न तो प्रॉपर मास्क कैरी कर रहे हैं न ही पब्लिक प्लेस पर फिजिकल डिस्टेंसिंग को फॉलो कर रहे हैं, जो एक बार फिर से कोरोना ग्राफ वृद्धि के लिए मददगार पहलू बन सकता है। अगर हम चाहते हैं कि राजधानी कोरोना फ्री हो जाए तो हम सभी को तत्काल प्रभाव से अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी और हर उस गाइडलाइन का पालन करना होगा, जो कोरोना की मार के असर को बेदम कर सकता है।

25 से 30 फीसदी नहीं लगाते मास्क

जैसे जैसे कोरोना पेशेंट का ग्राफ कंट्रोल में आ रहा है, उसी रफ्तार से लोग भी लापरवाह होते जा रहे हैं। प्रोविजन स्टोर्स, दूध की दुकान से लेकर माल्स में आने वाले करीब 25 से 30 फीसदी लोग मास्क नहीं लगा रहे हैं। इसके साथ ही करीब 20 से 25 फीसदी लोग फिजिकल डिस्टेंसिंग को फॉलो नहीं कर रहे हैं, जिसकी वजह से कोरोना के फैलने का खतरा बढ़ रहा है।

अरे हमें तो कोरोना नहीं होगा

करीब 40 फीसदी लोग स्वत: यह मान चुके हैं कि उन्हें कोरोना नहीं हो सकता है। यही लापरवाही पूर्ण सोच आने वाले दिनों में अन्य जागरुक लोगों के लिए बड़ा खतरा बन सकती है। हम यह नहीं कह रहे हैं कि उन्हें कोरोना हो बल्कि हम बस इतना जागरुक करना चाहते हैं कि जब तक एक भी कोरोना केस राजधानी में है, खतरा हर किसी के लिए बरकरार रहेगा। ऐसे में सभी को कोविड गाइडलाइंस का पालन करना चाहिए।

रिकवरी रेट में वृद्धि

लगातार बढ़ते कोरोना पेशेंट के बीच यह सुखद पहलू है कि प्रदेश में रिकवरी रेट 82.86 प्रतिशत हो गया है। वहीं राजधानी की बात की जाए तो रिकवरी प्रतिशत करीब 82.35 है। उक्त आंकड़ों से साफ है कि अगर जनता का साथ मिल जाए तो रिकवरी प्रतिशत 90 या उससे पार जाने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा।

50 फीसदी से अधिक कमी

तीन दिन पहले जहां राजधानी में कोरोना पेशेंट मिलने का आंकड़ा 1 हजार के पार था, वहीं अब यह आंकड़ा 580 के आसपास पहुंच गया है। मतलब साफ है कि राजधानी में कोरोना की पकड़ ढीली पड़ती जा रही है। बस इस रफ्तार को कायम रखने के लिए हम सभी को तीन कदम उठाने होंगे और पूरी स्थिति कंट्रोल में होगी।

आंकड़ा पेशेंट का

दिनांक पेशेंट रिकवर

26

25 580 853

24 659 852

23 825 956

22 969 946

21 1037 1114

20 874 1100

19 1160 1105

बस रखनी होगी ये सावधानी

1. मास्क का प्रॉपर यूज करें

2. पब्लिक प्लेस पर फिजिकल डिस्टेंसिंग बनाए रखें

3. कोई भी चीज छूने के बाद हैंड सेनेटाइज करें

4. इम्युनिटी मेनेटन रखने के लिए काढ़ा इत्यादि का सेवन करें

5. कोरोना लक्षण दिखने पर तुरंत जांच कराएं

कांटेक्ट इफेक्ट भी हुआ डाउन

एक खास बात और भी सामने आ रही है कि पहले जहां एक व्यक्ति के कोरोना पीडि़त होने पर उसके संपर्क में आने वाला एक अन्य व्यक्ति जरूर संक्रमित होता था, वहीं अब इस बिंदु के प्रतिशत में भी गिरावट देखने को मिली है। पहले जहां कांटेक्ट इफेक्ट एक प्रतिशत था। वहीं अब यह प्रतिशत 0.9 रह गया है। उदाहरण के लिए गोमती नगर में एक परिवार का मुखिया कोरोना पॉजिटिव निकला, उसे उम्मीद थी कि पूरा परिवार भी संक्रमित होगा, लेकिन जब परिवार के हर एक सदस्य की जांच हुई तो सभी निगेटिव मिले, जिससे साफ है कि कोरोना कांटेक्ट इफेक्ट भी कमजोर हुआ है।

बोले जिम्मेदार, तो जिम्मेदारी बढ़ जाती है

हम सभी जानते हैं कि कोरोना का ग्राफ कम हो रहा है। ऐसे में अब हम सबकी जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। कोरोना को हराना है तो प्रॉपर मास्क पहनना होगा और फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। हम सबके संयुक्त प्रयास से ही कोरोना पर जीत हासिल की जा सकती है।

संयुक्ता भाटिया, मेयर

कोरोना से बचाव का सबसे प्रमुख माध्यम मास्क है। पब्लिक प्लेस पर जाने से पहले मास्क जरुर पहनें। कोरोना का ग्राफ कम जरूर हुआ है, लेकिन खतरा अभी टला नहीं है। ऐसे में मास्क लगाना बेहद अनिवार्य है। इस संबंध में हम पब्लिक को लगातार जागरुक भी कर रहे हैं।

सुजीत पांडे, पुलिस कमिश्नर

घर से बाहर निकलते वक्त मास्क जरुर पहनें और कोविड 19 की गाइडलाइंस का अक्षरश: पालन करें। जिला प्रशासन लगातार पब्लिक को कोविड की गाइडलाइंस को लेकर जागरुक कर रहा है। जिला प्रशासन की ओर से मास्क भी वितरित किए जा रहे हैं।

अभिषेक प्रकाश, डीएम

ट्रेसिंग, टेस्टिंग और माइक्रो मैनेजमेंट यही तीन महत्वपूर्ण काम हैं, जो कोविड 19 की रोकथाम के लिए जरूरी हैं। उसके साथ लोगों को भी कोविड 19 गाइडलाइन का सख्ती के साथ पालन करना चाहिए ताकि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

डॉ। केपी त्रिपाठी, एसीएमओ

बोले लखनवाइट्स, निश्चित होगी हमारी जीत

कोरोना के आंकड़े में आई कमी यह बताने के लिए काफी है कि अगर हम सब मिलकर जागरुकता संबंधी कदम उठाएं तो निश्चित रूप से कोरोना पर जीत हासिल की जा सकती है।

अर्चना शुक्ला, आर्टिस्ट

अगर हर व्यक्ति प्रॉपर मास्क पहने और फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें तो निश्चित रूप से जल्द से जल्द कोरोना के ग्राफ को शून्य पर लाया जा सकता है। हम सभी को तत्काल प्रभाव से जिम्मेदारी समझनी होगी।

संदीप यादव, आर्टिस्ट

यह स्पष्ट है कि पब्लिक प्लेस पर जा रहे हैं तो मास्क पहनना बेहद जरूरी है। हम सभी को कोविड 19 की गाइडलाइंस का पालन करना चाहिए, जिससे राजधानी कोरोना फ्री हो सके।

राजेश सोनी, व्यापारी

हम सबके प्रयास से ही कोरोना पर जीत हासिल की जा सकती है। हम खुद भी मास्क पहने और दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करेंण् निश्चित रूप से परिणाम बेहतर होंगे।

नरेंद्र यादव, प्राइवेट जॉब

वेब लिंक

जागरुकता के लिए और क्या कदम उठाने चाहिये?

अभिषेक मिश्रा का नंबर

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.