उत्तराखंड निवेशकों के लिए स्पिरिचुअल इकोनॉमिक जोन

2018-10-08T06:00:40Z

डेस्टिनेशन उत्तराखंड को पीएम ने बताया न्यू इण्डिया का परिचायक

उत्तराखण्ड में विकास की अपार सम्भावनाएं, केंद्र सरकार हर सम्भव सहयोग देगी।

उत्तराखण्ड में स्पिरिचुअल इकोनॉमिक जोन से पूरी दुनिया को मिलती है ताकत।

देहरादून,

डेस्टिनेशन उत्तराखंड इनवेस्टर्स समिट 2018 का संडे को दून के महाराणा प्रताप स्पो‌र्ट्स स्टेडियम में आगाज हुआ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने समिट का उद्घाटन किया। दो दिन चलने वाली इनवेस्टर्स समिट के उद्घाटन सत्र में प्रधानमंत्री ने उत्तराखंड प्रदेश को निवेशकों के लिए एक अलग तरह का सेज बताया। उत्तराखण्ड में सेज का मतलब है स्पिरिचुअल इकोनॉमिक जोन। गंगा और हिमालय के कारण इसकी ताकत किसी अन्य सेज से लाखों गुना ज्यादा है। पीएम ने कहा कि कि बाबा केदार की भूमि में निवेश करने वाले दैवीय अनुभूति करेंगे। नई चेतना प्राप्त करेंगे। डेस्टिनेशन उत्तराखंड न्यू इण्डिया का प्रतिनिधित्व करता है। उन्होंने उत्तराखंड सरकार के प्रयासों की सराहना के साथ ही निवेशकों को उत्तराखंड में निवेश करने और इन दो दिनों में निवेश के जितने एमओयू साइन होते हैं उनके फलीभूत होने का विश्वास जताया। गौरतलब है कि उत्तराखंड राज्य बनने के बाद 18 वर्ष में पहली बार इनवेस्टर्स समिट आयोजित हो रही है। इसमें अब तक 70 हजार करोड़ से अधिक के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं।

समिट को सिंगापुर के सूचना प्रसारण मंत्री एस.ईश्वरन,भारत में जापान के राजदूत केंजी हिरमात्सु, चेक गणराज्य के राजदूत मिलन होवोरका और भारत के नामचीत उद्योगपति समूह के प्रतिनिधियों ने भी सम्बोधित किया। समिट में एक हजार से अधिक निवेशक शामिल हुए। शाम को निवेशकाें को ऋषिकेश में गंगा आरती कराई गई।

पीएम ने कहा किउत्तराखंड में देश के अन्य हिस्सों से कनेक्टीविटी बढ़ाने के लिए अनेक प्रयास किए जा रहे हैं। चारधाम ऑल वेदर रोड़ व कर्णप्रयाग-ऋ षिकेष रेल परियोजना से यहां पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। प्रदेश सरकार ने पर्यटन को उद्योग का दर्जा दिया है। अनेक तरह के नीतिगत सुधार किए गए हैं। आर्गेनिक खेती की भी यहां भरपूर सम्भावना है। एग्रीकल्चर में वेल्यू एडीशन से किसानों की आय बढ़ाने में सहायता मिलेगी।

18 साल की उम्र बहुत महत्वपूर्ण

प्रधानमंत्री ने कहा कि मेक इन इण्डिया में उत्पादन पूरे विश्व के लिए होना चाहिए। भारत की प्रगति राज्यों की सम्भावनाओं को वास्तविकताओं में बदल कर ही किया जा सकता है। यह अच्छी बात हुई है कि राज्यों में स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा प्रारम्भ हुई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि 18 साल की उम्र बहुत महत्वपूर्ण होती है। उत्तराखण्ड की संस्कृति बहुत पुरातन है परंतु राज्य निर्माण को 18 साल हुए हैं। राज्य सरकार में कुछ नया कर गुजरने का जच्बा है। राज्य में आर्थिक विकास के लिए केंद्र सरकार हरसम्भव सहयोग प्रदान करेगी। प्रधानमंत्री ने इन्वेस्टर्स समिट में आए उद्यमियों से उत्तराखण्ड में निवेश का आहवान करते हुए कहा कि केंद्र सरकार राज्य को आगे बढ़ाने में आवश्यक सहयोग देगी।

वन गर्ल, वन सन और वन ग्रिड:

पीएम ने कहा कि नवीकरणीय उर्जा में भारत व‌र्ल्ड लीडर बन सकता है। उत्तराखण्ड में उर्जा के क्षेत्र में इतनी सम्भावनाएं हैं कि देश की उर्जा आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है।

देश में पावर सेक्टर में तेजी से हो रहे विकास पर प्रधानमंत्री नया नारा दिया। उन्होनें कहा कि अब वह वक्त आ गया है जब भारत में हर परिवार का नारा होगा। एक बेटी, एक बेटा और एक पावर ग्रिड।

उत्तराखंड टूरिज्म का कंप्लीट पैकेज: प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड में वेंचर, एडवेंचर, कल्चर, योग और मेडिटेशन अपने आप में टूरिज्म का कंप्लीट पैकेज है। बेहतर कनेक्टिविटी का लाभ टूरिज्म को मिलेगा। निवेशकों के लिए परिवेश नाम से ऑन लाइन अनुमति देने का काम पिछले चार वर्ष से चल रहा है। अधिक से अधिक लोग इसका लाभ उठाएं। एमएसएमई के लिए एक करोड़ तक का लोन अब कम समय में स्वीकृत हो जाएगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पीएम समेत सिंगापुर के मंत्री, चेक गणराज्य और जापान के राजदूत समेत देश विदेश से आए उद्योग जगत के तमाम उघमियों का देवधरा पर स्वागत करते हुए उत्तराखंड की सवा करोड़ जनता की ओर से डेस्टिनेशन उत्तराखंड पर भरोसा जताने के लिए आभार प्रकट किया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.