Ye Kaisi Mohabbat

2012-04-26T23:04:02Z

PATNA प्यार में सबकुछ जायज है पर धोखा बर्दाश्त नहीं किसी भी कीमत पर नहीं यही वजह थी कि प्रेमी के पैसे पर ऐशमौज कर रही प्रेमिका को दूसरे के संग मस्ती करते देख निर्भय को बर्दाश्त नहीं हुआ उसने पहले चेतावनी दी उस पर बात नहीं बनी तो प्रेमिका पर चला दिया हसुआ

लहूलुहान प्रेमिका को आनन-फानन में पीएमसीएच में एडमिट कराया गया. वहीं प्रेमी को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया. यह सब हुआ गुरुवार को बहादुरपुर थाना के सामने स्थित सिमरन गल्र्स हॉस्टल के मेन गेट पर. आरा के इमातपुर थाना के विशपुरा निवासी सुरेंद्र नारायण सिंह का बेटा है निर्भय कुमार सिंह. बक्सर के गरहांता निवासी हरेंद्र सिंह की बेटी कल्पना (काल्पनिक नाम) से प्यार करता था.

हर मंथ पांच से आठ हजार रुपए
निर्भय पुणे में टाटा की एटलस कंपनी में 16 हजार की सैलरी पर जॉब करता था. निर्भय ने प्रेमिका को अपना एटीएम दे रखा था. कल्पना हर मंथ पांच से आठ हजार रुपए खर्च करती थी. निर्भय ने बताया कि 15 दिनों से उसे मन नहीं लग रहा था. सो, उसने फोन पर कोर्ट मैरिज की बात कह 24 अप्रैल को पटना आ गया.

लड़की कर रही इंजीनियरिंग की तैयारी
कल्पना बहादुरपुर थाना के ठीक सामने सिमरन गल्र्स हॉस्टल में रह कर इंजीनियरिंग की तैयारी कर रही है. निर्भय ने उसे दूसरे लड़के साथ देखा. इसके बाद भी निर्भय ने उसे समझाने की कोशिश की. उस लड़के से नहीं मिलने को कहा. लेकिन प्रेमिका ने साफ कह दिया कि तुम्हें पसंद नहीं है, तो हमें भूल जाओ. इस पर निर्भय सदमे में आ गया. वह हॉस्टल पहुंचकर प्रेमिका को बुलाने लगा. प्रेमिका ने अपने चचेरे भाई नितेश को बुला रखा था.

निर्भय पर पिस्टल तान दी
नितेश सिपाही है और वह पिस्टल लेकर आया था. उसने निर्भय पर पिस्टल तान दी. इस बीच प्रेमिका के आने पर दोनों के बीच नोकझोंक हुई. मौका पाकर निर्भय ने कमर में छिपा कर रखे कटिया से प्रेमिका पर वार कर दिया. उसकी पीठ, बांह व हाथ को इंजर्ड कर दिया. शोर होते ही थाने से पुलिस दौड़ कर आ गई. इस बाबत एसएचओ रंजीत कुमार ने बताया कि निर्भय को कटिया समेत अरेस्ट कर लिया गया, वहीं लड़की को इलाज के लिए पीएमसीएच भेज दिया गया.



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.