हेल्थ की चिंता लेकिन Mediclaim पॉलिसी लेने में पीछे हैं भारत के युवा

2019-01-04T13:02:16Z

आज के युवा अपनी हेल्थ को लेकर वैसे तो सजग दिखे लेकिन इसको लेकर फ्यूचर प्‍लानिंग करने में वो शायद कमजोर हैं। चौकाने वाली बात यह है कि करीब 50 परसेंट युवाओं ने अपने लिए कोई हेल्थ पॉलिसी ही नहीं ली है।

कानपुर। दैनिक जागरण आई नेक्स्ट के एक्सक्लूसिव सर्वे में 34 परसेंट युवाओं ने माना कि उन्होंने हेल्थ पॉलिसी ले रखी हैं। हालांकि 16 परसेंट युवाओं ने माना कि वो अब अपने लिए हेल्थ पॉलिसी लेने पर विचार कर रहे हैं।

हेल्थ पॉलिसी के मामले में महिलाएं पीछे रहीं
मात्र 28 परसेंट महिलाओं ने ही हेल्थ पॉलिसी ले रखी है और करीब 18 परसेंट महिलाएं अब आगे पॉलिसी लेने पर विचार कर रही हैं। 50 परसेंट युवाओं ने नहीं ले रखी है अपने लिए कोई हेल्थ पॉलिसी।

हेल्थ को लेकर बहुत अलर्ट है युवा

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट के सर्वे में युवाओं ने हेल्थ को अपनी पहली प्राथमिकता बताया है। जब उनसे इस मुद्दे पर खुलकर बात की गई तो सामने आया कि आधे ज्यादा युवा अपने हेल्थ को लेकर एलर्ट रहते हैं। सिर्फ आठ परसेंट ही लोग ऐसे निकले जिन्होंने माना कि वो हेल्थ को लेकर बिलकुल अलर्ट नहीं हैं। 38 परसेंट ऐसे भी हैं जिनके लिए उनकी हेल्थ बहुत ज्यादा मैटर करती हैं। इस तरह हम कह सकते हैं कि 92 परसेंट लोग हेल्थ को लेकर अलर्ट रहते हैं।

महिलाएं अपनी हेल्थ को बहुत सीरियसली लेती हैं
वैसे तो सामान्य तौर पर हेल्थ को लेकर एलर्ट रहने वालों में महिलाओं की तुलना में पुरुष ज्यादा हैं, लेकिन जब बात सीरियसली एलर्ट की आती है तो यहां महिलाएं आगे हैं। 47 परसेंट महिलाओं ने माना कि वो अपनी हेल्थ को लेकर बहुत ज्यादा अलर्ट रहती हैं, जबकि 35 परसेंट पुरुषों ने इसे बहुत सीरियस माना।

आप अपने स्वास्थ को लेकर कितना अलर्ट हैं?
18 से 35 वर्ष की ऐजग्रुप के युवा हेल्थ को लेकर सबसे ज्यादा अलर्ट हैं। इस ऐजग्रुप के 56परसेंट युवाओं ने माना कि वो हेल्थ को लेकर अलर्ट रहते हैं। मात्र 6 परसेंट ही हेल्थ को लेकर लापरवाह निकले। मतलब इस एजग्रुप के 94% युवा काफी हेल्थ कॉन्सेस हैं। वहीं अगर प्रोफेशन वाइस बात करें तो जॉब करने वाले युवा बिजनेसमेन और अन्य कैटेगरी की तुलना में अपनी हेल्थ को लेकर ज्यादा अलर्ट रहते हैं। नौकरीपेशा 57 परसेंट युवा सामान्य रूप से अलर्ट रहते हैं जबकि 37 परसेंट युवा ज्यादा अलर्ट रहते हैं।

बीमार होने पर ही जाते हैं डाक्टर के पास
आमतौर पर माना जाता है कि अगर हेल्थ का रुटीन चेकअप किया जाए तो आने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है। लेकिन इसके बावजूद युवा तभी डॉक्टर के पास जाते हैं जब बीमार होते हैं। सर्वे की फाइंडिंग के अनुसार, मात्र 20 परसेंट युवा ही डाक्टर के पास रुटीन चेकअप के लिए जाते हैं जबकि 68 परसेंट युवा बीमार होने पर ही डॉक्टर के पास जाते हैं। 12 परसेंट ऐसे भी हैं जिन्होंने माना कि वो डॉक्टर के पास जाना अवाइड भी करते हैं।

महिलाएं करती हैं अवाइड
वहीं दूसरी ओर डॉक्टर के यहां जाने के मामले में पुरुषों की तुलना में महिलाएं ज्यादा एवाइड करती हैं। इस मामले में जहां 11 परसेंट पुरुषों ने डॉक्टर के यहां जाने से एवाइड करने को कहा, वहीं महिलाओं में यह आंकड़ा 16 परसेंट रहा। वहीं 18 परसेंट महिलाएं और 20 परसेंट पुरुष डॉक्टर के पास रूटीन चेकअप के लिए जाने की बात स्वीकार करते हैं।

ऑनलाइन मेडिकल फैसिलिटी भी यूज करते हैं युवा
मेडिकल फील्ड में ऑनलाइन फैसिलिटी का क्रेज भी बढ़ता जा रहा है। डॉक्टर्स से एडवाइज हो या फिर ऑनलाइन मेडिसिंस मंगवाना, लोग धीरे-धीरे इसका प्रयोग करने लगे हैं। सर्वे में शामिल 20 परसेंट युवाओं ने जहां कहा कि वो डॉक्टर्स से ऑनलाइन एडवाइज लेते हैं तो वहीं 18 परसेंट लोगों ने ऑनलाइन दवाओं को लेने की बात भी कहीं। खास बात यह है कि 24 परसेंट लोग दोनों कामों के लिए ऑनलाइन मेडिकल फैसिलिटी का यूज करते हैं। इस मामले में यह भी सामने आया है कि 38 परसेंट युवा किसी भी तरह से ऑनलाइन मेडिकल फैसिलिटी का यूज नहीं करते हैं।

यहां बिजनेसमेन आगे

ऑनलाइन मेडिकल सर्विस लेने वालों में नौकरीपेशा लोगों की अपेक्षा बिजनेसमेट आगे निकले। जहां 25 परसेंट बिजनेसमेन ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए डॉक्टर से एडवाइज और दवाएं दोनों ही लेते हैं, वहीं 40 परसेंट नौकरी पेशा युवा मानते हैं कि वो किसी भी तरह की ऑनलाइन मेडिकल फैसिलिटी का यूज नहीं करते हैं।

हेल्थ पॉलिसी लेने के मामले में 18 से 25 ऐजग्रुप की अपेक्षा 26 से 35 ऐजग्रुप वाले आगे रहे। इसका कारण शायद यह भी रहा क्योंकि वो फाइनेंशियली स्टेबल और इम्प्लॉयड अधिक रहे। सर्वे के मुताबिक 40 परसेंट 26 से 35 ऐजग्रुप वाले युवाओं के पास हेल्थ पॉलिसी है। 54 परसेंट महिलाएं ऐसी हैं जिनके पास न तो पॉलिसी है और न ही उनका अभी ऐसा कोई विचार है।

मुझे एक मिनट की भी ट्रेनिंग करना पसंद नहीं है। फिर मैं सोचता हूं। डोंट क्विट, अभी संघर्ष कर लो तो पूरी लाइफ चैंपियन की तरह जी पाओगे। - मोहम्मद अली, अमेरिकन प्रोफेशन बॉक्सर

मनी का सही मैनेजमेंट आपको बना सकता है फाइनेंशियली स्टेबल



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.