यह भी जानें

-535 कॉलेजेज हैं आरयू से संबद्ध

-17 सितम्बर को आरयू ने कराई थी क्रॉस कंट्री रेस

-12 कॉलेजेज के 50 मेल स्टूडेंट ने किया था पार्टिसिपेट

-10 कॉलेजेज से 19 फीमेल स्टूडेंट्स ने लिया था हिस्सा

-6 अक्टूबर को ब्वॉयज की थी ऑल इंडिया क्रॉस कंट्री रेस

-10 अक्टूबर को ऑल इंडिया क्रॉस कंट्री रेस ग‌र्ल्स की होनी है.

-बिना कोच के प्लेयर्स ने की तैयारी, क्वालीफाइंग टाइम ज्यादा होने पर आरयू ने नहीं कराया पार्टिसिपेट

-ऑल इंडिया रेस की तुलना में यहां हुई रेस में 2 और 3 मिनट लिया ज्यादा टाइम

बरेली: शहर के खिलाडि़यों को आरयू प्रशासन खुद आगे नहीं बढ़ने दे रहा है. यह बात हम नहीं बल्कि खुद प्लेयर्स बता रहे हैं. हैरत की बात है कि ऑल इंडिया क्रॉस कंट्री रेस के लिए प्लेयर्स ने बिना कोच दिन-रात मेहनत की, लेकिन जब पार्टिसिपेट करने का टाइम आया तो आरयू ने किसी का नाम ही नहीं भेजा. उनका कहना है कि कोई भी प्लेयर्स क्वालीफाइंग टाइम में रेस पूरी नहीं कर पाया. इसलिए भेजने का कोई मतलब नहीं बनता है. जबकि प्लेयर्स का कहना है सिर्फ दो और तीन ज्यादा रहे, अगर कैंप लगाकर तैयारी कराते तो निश्चित ही मेडल लाकर शहर और यूनीवर्सिटी का नाम रोशन करते. वहीं आरयू की हीलाहवाली से एक बार फिर टैलेंट रूपी दिए रोशन होने से पहले ही बुझा दिए गए.

17 को हुई थी रेस

आरयू से संबद्ध सभी कॉलेजेज के प्लेयर्स के बीच 17 सितंबर को 10 किमी. की क्रॉस कंट्री रेस कराई गई थी. ब्वॉयज ग्रुप से 12 कॉलेजज से 50 प्लेयर्स ने पार्टिसिपेट किया था. जबकि ग‌र्ल्स ग्रुप से 10 कॉलेजज से 19 प्लेयर्स ने हिस्सा लिया.

ब्वॉयज ग्रुप में यह थे विनर

ब्वॉयज ग्रुप में खुसरो पीजी कॉलेज के धर्मेन्द्र कुमार मौर्य 34:02:22 मिनट में रेस पूरी कर फ‌र्स्ट रहे थे. सेकंड नम्बर पर जीएफ कॉलेज के भूपेन्द्र कुमार ने 34:10:02 मिनट में रेस पूरी की थी. थर्ड नम्बर पर जेएसएच कॉलेज के दिनेश कुमार ने 34:39:62 मिनट में रेस पूरी की थी.

ग‌र्ल्स ग्रुप में यह लोग थे विनर

जबकि ग‌र्ल्स ग्रुप में जीएफ कॉलेज की अनुराधा गंगवार ने 46:33:25 मिनट, कन्या महाविद्यालय भूड़ से काजल चक्रवती ने 47:01:70 मिनट और केडी नागर महाविद्यालय की कंचन ने 49:19:53 में रेस पूरी पूरी की थी. लेकिन इनमें किसी भी प्लेयर ऑल इंडिया क्रॉस कंट्री रेस में पार्टिसिपेट का मौका नहीं दिया गया.

इसलिए नहीं समझा काबिल

आरयू ने क्रॉस कंट्री इसलिए कराई थी ताकि जीतने वाले प्लेयर को ऑल इंडिया क्रॉस कंट्री रेस में भेजा जा सके. लेकिन उन्होंने प्लेयर्स की तैयारी कराने की जहमत नहीं उठाई. वहीं जब उनसे ऑल इंडिया क्रॉस कंट्री रेस में प्लेयर्स को न भेजने के बारे में पूछा तो उनका कहना था कि क्रास कंट्री रेस में जो प्लेयर्स विजेता बने हैं, वह सभी करीब चालीस मिनट में अपनी रेस पूरी कर सके. जो पिछली साल के क्वालीफाइंग टाइमिंग से 50वीं पोजीशन पर है. इसलिए किसी का भी नाम नहीं भेजा.

ऑल इंडिया क्वालीफाइंग टाइम

ऑल इंडिया क्रॉस कंट्री रेस में मानक के अुनसार ब्वॉयज प्लेयर्स को 30 मिनट और ग‌र्ल्स को 31 मिनट में 10 किमी. रेस पूरी करनी होती है, लेकिन आरयू की क्रास कंट्री रेस में जो भी विनर फ‌र्स्ट सेकंड और थर्ड नम्बर पर आए हैं उन्होंने रेस करीब 33 से 40 मिनट में पूरी की है.

==============

ऑल इंडिया के लिए किसी भी प्लेयर्स को आरयू की तरफ से प्रतिभाग करने के लिए नहीं भेजा है. क्योंकि पिछले साल के विनर से 50वीं रैंक ऊपर थी. ऐसे में किसी प्लेयर्स को ऑल इंडिया रेस में भेजना भी सही नहीं था.

-एके जेटली, क्रीड़ा सचिव आरयू

=======

रेस में मेरी सेकेंड पोजीशन आई थी. पूरे साल प्रैक्टिस की, लेकिन ऑल इंडिया रेस में पार्टिसिपेट करने का मौका नहीं दिया. क्वालीफाइंग की टाइमिंग ज्यादा होने पर बाहर किया है, लेकिन जब कोच ही नहीं तो प्रैक्टिस कैसे होती. इसके बारे में कोई नहीं सोचता.

काजल चक्रवर्ती, सेकेंड विनर

-----------------

ऑल इंडिया रेस में किसी को भी नहीं भेजा. जबकि भेजना चाहिए था. अगर पहले से प्रैक्टिस के लिए कैंप कराया जाता तो जरूर फायदा मिलता, लेकिन ऐसा नहीं किया गया.

धर्मेन्द्र कुमार, फ‌र्स्ट विनर