- नेपाल से 168 विमान यात्री सकुशल पहुंचे बनारस

- पैसेंजर्स ने बयां किया पीडि़तों का दर्द, बताया हर तरफ है तबाही का मंजर

varanasi@inext.co.in

VARANASI : नेपाल में आए भूकम्प के बाद मौत का जो तांडव हुआ उसकी दहशत वहां से लौटने वालों के दिल में अब तक है. मौत का मंजर उनकी आंखों के सामने नाच रहा है. सोमवार को एयर इंडिया का विमान नेपाल से क्म्8 पैसेंजर्स को लेकर बाबतपुर आया. इनमें से कई लोग बिजनेस के सिलसिले में तो कुछ घूमने-फिरने गए थे.

सबकुछ हो गया तबाह

नेपाल से लौटकर आए चेतगंज निवासी राजीव और गोदौलिया के पंकज का कहना है कि काठमांडू में वह जिस स्थान पर थे वहां सबकुछ बर्बाद हो चुका है. वे व्यापार के सिलसिले में नेपाल गए थे. शनिवार को बाजार में थे कि तभी भूकम्प आने की सूचना मिली. कुछ देर में हर तरफ तबाही का मंजर था. अपने नेपाली मित्र के साथ किसी तरह से रत्ना पार्क के मैदान में पहुंचे. लगभग तीन घंटे बाद लोग पार्क से बाहर आए. किसी तरह से होटल जाने की हिम्मत जुटा सके.

एक पैसेंजर गया नेपाल

एयर इंडिया का विमान दोपहर में क्म्8 यात्रियों को लेकर लाल बहादुर शास्त्री हवाई अड्डे पर पहुंचा. सीमा शुल्क और इमीग्रेशन काउंटर की औपचारिकता पूरी करने के बाद टर्मिनल बिल्डिंग के बाहर आने पर उन्होंने राहत की सांस ली. वहीं इसी विमान से महज एक यात्री सोमवार को काठमांडू गया. नेपाल में आए भूकंप से पीडि़त लोगों के लिए बनारस से म्0 यूनिट रक्त भी भेजा गया. बाबतपुर हवाई अड्डे पर सुबह मॉकड्रिल किया गया. इस दौरान सुरक्षा से जुड़े विभागों ने हाईजैक की सिचुएशन क्रिएट करते उसे सक्सेजफुली हैंडल किया. मॉकड्रिल में लोकल पुलिस भी इनवॉल्व हुई.