-सुबह पांच बजकर 32 मिनट से शुरू होगा रक्षाबंधन का पर्व

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: भाई-बहन के पवित्र प्रेम के प्रतीक रक्षाबंधन को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं. इस बार रक्षाबंधन का पर्व स्वतंत्रता दिवस यानी 15 अगस्त हो पड़ रहा है. पूर्णिमा की शुरुआत 14 अगस्त को दिन में 2 बजकर 47 मिनट से शुरू होकर 15 अगस्त की शाम 4 बजकर 23 मिनट तक रहेगी. हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार लोग किसी भी पर्व को सूर्य के उदय से ही मानते हैं. इस तरह बहनें अपने भाई की कलाई में रक्षा सूत्र 15 अगस्त को सुबह 5 बजकर 32 मिनट से शाम 4 बजकर 23 मिनट के बीच कभी भी बांध सकती हैं.

12.56 तक रहेगा सौभाग्य योग

ज्योतिषाचार्यो के अनुसार पूर्णिमा के दौरान राहु काल और भद्रा को छोड़ कर शेष समय रक्षाबंधन के लिए शुभ होता है. शुभ नक्षत्रों की बात करें तो रक्षाबंधन के दिन इस बार श्रवण नक्षत्र सुबह 8 बजकर एक मिनट तक रहेगा. इसके बाद धनिष्ठा नक्षत्र शुरू होगा. साथ ही सौभाग्य योग की शुरुआत होगी जो दोपहर 12 बजकर 56 मिनट तक रहेगा. इसके ठीक बाद शोभन योग की शुरुआत होगी. इस रक्षाबंधन की खासबात है कि पर्व के समय भद्रा नहीं है जो अति शुभकारी होगा.

कब करें रक्षाबंधन

ज्योतिषाचार्य ने बताया कि 15 अगस्त को सुबह 5 बजकर 32 मिनट से शाम 4 बजकर 23 मिनट तक रक्षाबंधन कर सकते हैं. इसमें यदि एक बजकर 30 मिनट से 3 बजे तक राहुकाल का परित्याग कर सकें तो उत्तम ही होगा.