गरीब सवर्ण को 10 फीसदी आरक्षण को कैबिनेट मंत्री ने दिया समर्थन

मेरठ पहुंचे यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर

राम मंदिर पर कैबिनेट मंत्री ने कहा-जनता की भावनाओं को समझे सरकार

 

MEERUT :  अनुसूचित जाति/जनजाति का बेटा आरक्षण लेकर डीएम, कमिश्नर, आईजी, डीआईजी, मुख्यमंत्री, राष्ट्रपति, राज्यपाल हो गया. आज उसको आरक्षण की क्या जरूरत है? बाबा साहेब डॉ. बीआर अंबेडकर ने गरीबों के लिए आरक्षण दिया, कोई रामविलास पासवान के लिए नहीं दिया आरक्षण. डीएम यदि ईमानदारी से कमाता है तो महीने में 10 लाख, तो उसके बेटे को आरक्षण की अब क्या जरूरत है. हम 16 साल से यह मांग कर रहे हैं कि सर्वेक्षण कर दिया जाए और आर्थिक आधार पर सभी जातियों को आरक्षण दिया जाए. बुधवार को मेरठ पहुंचे प्रदेश के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने गरीब सवर्ण को 10 फीसदी आरक्षण के केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत किया. साथ ही मौजूद आरक्षण व्यवस्था की खामियों पर सरकार को घेरा.

 

ओबीसी आरक्षण में चाहिए बंटवारा

बुधवार को एक कार्यक्रम में शामिल होने मेरठ पहुंचे प्रदेश के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने सरकार के साथ गतिरोध पर सर्किट हाउस में खुलकर बयान दिया. उन्होंने कहा कि हम सरकार से 27 प्रतिशत पिछड़ा वर्ग के आरक्षण में बंटवारे की मांग कर रहे हैं. हम किसी सड़क या बालू का ठेका नहीं मांग रहे हैं. कैबिनेट मंत्री ने भाजपा के साथ लोकसभा चुनाव लड़ने के सवाल पर कहाकि पिछड़ा वर्ग की आरक्षण व्यवस्था में संशोधन की मांग की है, 100 दिन का सरकार को समय दिया है. यदि मांग नहीं मानी जाएगी तो अकेले लड़ेंगे. भाजपा के 10 प्रतिशत सवर्ण आरक्षण की वजह मंत्री ने यूपी मे सपा-बसपा के गठबंधन को बताया.

 

शिक्षा से होगा विकास

केंद्र और राज्य सरकार को सुझाव देते हुए कैबिनेट मंत्री ने कहा कि 70 साल की आजादी के बाद भी प्राइमरी स्कूलों में बच्चे टाट पर बैठकर पढ़ाई कर रहा है. 5 साल की केंद्र भी भाजपा सरकार और 22 माह की यूपी सरकार के बाद बाद भी स्थिति जस की तस है. भाजपा कुंभ, मंदिर-मस्जिद की बात करती है, मोक्ष कुंभ से नहीं मिलेगा बल्कि शिक्षा के स्तर में सुधार से मिलेगा.

 

प्रदेश के बंटवारे की वकालत

कैबिनेट मंत्री ने वेस्ट यूपी में हाईकोर्ट बेंच की मांग पर कहा कि प्रदेश को 4 हिस्सों मे बांटकर 4 अलग राज्य बना दें, सब समस्या का समाधान हो जाएगा. उन्होंने हाईकोर्ट बेंच की मांग को वाजिब करार देते हुए समस्या का ठीकरा विधायक-सांसद के सिर फोड़ा. उन्होंने कहा कि विधायक-सांसद नहीं चाहते कि वेस्ट यूपी में हाईकोर्ट की बेंच बने. भाजपा नेताओं के बयान पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि 'नेता सिर्फ लाइमलाइट में रहने के लिए बयान देते हैं, मालिक तो अमित शाह, नरेंद्र मोदी हैं.'

 

मंत्री को आया बुखार

मेरठ पहुंचे कबीना मंत्री ओमप्रकाश राजभर का सर्किट हाउस स्वास्थ्य बिगड़ गया. आनन-फानन में सीएमओ डॉ. राजकुमार ने एंबुलेंस के साथ पहुंचकर मंत्री का स्वास्थ्य परीक्षण किया. सीएमओ ने बताया कि कैबिनेट मंत्री को वायरल फीवर हो रहा था. दवा दे गई, ब्लड प्रेशर एवं अन्य सभी जांचे सामान्य थीं.