- वाट्सएप फेसबुक के माध्यम से भूमाफिया के कब्जे से भैंसाली डिपो को बचाने की अपील

मेरठ. भैंसाली डिपो के स्थानानंतरण के मामले में अब रोडवेज कर्मचारी और अधिकारी स्थानानंतरण के विरोध में जुट गए हैं. रोडवेज के कर्मचारियों ने स्थानांतरण को गलत बताते हुए भैंसाली डिपो को यथा जगह पर बनाए रखने के लिए जनजागरण अभियान की शुरुआत की है.

स्थानांतरण का मामला

भैंसाली बस डिपो को शहर से बाहर स्थानांतरित करने के मामले में एनजीटी कोर्ट में मामला चल रहा है. बस डिपो के आसपास के व्यापारियों समेत समाज सेवियों ने बस डिपो को वायु और ध्वनि प्रदूषण समेत जाम का कारण बताते हुए शहर से बाहर स्थानांतरित करने की मांग की थी. कोर्ट में स्थानांतरण का मामले में जल्द फैसला आने वाला है.

वाट्सएप पर शुरु की मुहिम

सैंट्रल रीजनल रोडवेज कर्मचारी एसोसिएशन ने भैंसाली डिपो के स्थानांतरण के विरोध में जनजागरण अभियान की शुरुआत की है. इस अभियान के तहत एसोसिएशन के कर्मचारियों ने भैंसाली डिपो को शहर के लोगों की जरुरत के हिसाब से शहर के अंदर रखने की मांग की है.

यात्रियों का होगा नुकसान

एसोसिशन के अनुसार शहर से बाहर शिफ्ट करने पर शहर के लोगों को कई किमी दूर शहर से बाहर जाना पडे़गा. जिससे लोग बस अड्डे से शहर के अंदर आने व बस अडडे तक जाने में असुरक्षित महसूस करेंगे.

भूमाफियों की नजर

एसोसिएशन ने भैंसाली डिपो के स्थानांतरण का मुददा केवल भूमाफियों के दिमाग की उपज बताया है. भैंसाली डिपो शहर के बीचोबीच बना हुआ है इससे आसपास सैकड़ों व्यापारियों का काम धंधा चलता है. ऐसे में डिपो को इस जमीन से शिफ्ट कराकर कुछ भूमाफिया डिपो की जमीन को हथियाना चाहते हैं.

कोटस-

भैंसाली डिपो का स्थानांतरण में केवल कुछ भूमाफियों का फायदा है. उन्हीं के द्वारा यह मामला बनाया गया है.

- गुलशाद अली, एसोसिएशन अध्यक्ष

भैंसाली डिपो पहले बना उसके बाद यहां आसपास दुकानें व होटल बने. आज इस डिपो के कारण ही इन व्यापारियों को परेशानी हो रही है.

- सतेंद्र सिंह,

आमजन को शहर से बाहर 12 किमी दूर जाना पडे़गा. दिन में तो ठीक है लेकिन देर रात शहर से बाहर बस अड्डे से आना जाना यात्रियों के लिए असुक्षित होगा.

- जितेंद्र सिंह, मंत्री

बस अडडा स्थानांतरण सिर्फ भूमाफियाओं के दिमाग की उपज है. केवल डिपो की जमीन को हथियाने के लिए यह प्रयास किया जा रहा है.

- रईसुददीन, कोषाध्यक्ष

फैक्ट-

- भैंसाली डिपो से बसों का संचालन 256

- मेरठ डिपो से बसों का संचालन 168

- रोजाना यात्रियों का आवागमन 50 से 55 हजार

- भैंसाली डिपो और वर्कशॉप का क्षेत्रफल करीब 30 बीघा